मुंबई। इंग्लैंड में 30 मई से होने वाले क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम की घोषणा कर दी गई। टीम में अधिकांश खिलाड़ियों के नाम तो पहले से ही तय थे लेकिन युवा विकेटकीपर रिषभ पंत की बजाए दिनेश कार्तिक के चयन ने अवश्य फैंस को चौंकाया होगा। इसी प्रकार सिलेक्टर्स ने बल्लेबाजी में चौथे क्रम के लिए विजय शंकर को चुना।

बीसीसीआई सिलेक्शन कमेटी की मीटिंग के बाद बीसीसीआई के कार्यवाहक मानद सचिव अमिताभ चौधरी और चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद ने टीम की घोषणा की। इसके बाद सवालों के जवाबों के दौरान प्रसाद ने बताया कि खिलाड़ियों को किस वजह से चुना गया।

दिनेश कार्तिक को चुना और रिषभ पंत को क्यों नहीं

प्रसाद ने कहा कि यदि विकेटकीपर धोनी को वर्ल्ड कप में बाद के मैचों में चोट लग गई तो उस समय विकेटकीपिंग बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाएगी, इसी के मद्देनजर युवा रिषभ पंत की बजाए अनुभवी दिनेश कार्तिक को मौका दिया गया।

- पंत की विकेटकीपिंग ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैचों में कुछ कमजोर रही और उनकी तुलना में कार्तिक अच्छे विकेटकीपर हैं। इंग्लैंड में कार्तिक का पुराना रिकॉर्ड अच्छा भी रहा है। पंत की विकेटकीपिंग यदि थोड़ी बेहतर होती तो उन्हें मौका मिल सकता था। वैसे हैरानी की बात है कि पंत को टेस्ट टीम में मौका दिया गया है हैरान करता हैं।

चौथे क्रम पर विजय शंकर

- प्रसाद ने कहा कि चौथे क्रम के लिए विजय शंकर को चुना गया है। वैसे टीम में केदार जाधव भी मौजूद हैं। उन्होंने कहा कि चैंपियंस ट्रॉफी के बाद टीम में अंबाती रायुडू, विजय शंकर, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे समेत कई बल्लेबाजों को आजमाया गया। विजय को इसलिए चुना गया क्योंकि उनको टीम में चुने जाने से तिहरा लाभ मिलता है।

- विजय शंकर बल्लेबाजी करने वाले ऑलराउंडर हैं। इंग्लैंड में परिस्थितियां गेंदबाजों के अनुकुल रही तो वे गेंदबाजी भी कर सकते हैं। इसके अलावा वे एक अच्छे फील्डर भी हैं।

केएल राहुल की भूमिका

प्रसाद ने कहा कि राहुल वैसे तो टीम में रिजर्व ओपनर के रूप में मौजूद रहेंगे लेकिन यदि टीम प्रबंधन को लगा तो उनका मध्यक्रम में भी उपयोग किया जा सकेगा।

चौथा स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाज इसलिए नहीं

चीफ सिलेक्टर प्रसाद ने कहा कि हमें चौथे तेज गेंदबाज की आवश्यकता इसलिए महसूस नहीं हुई क्योंकि दो ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या और विजय शंकर मध्यम तेज गेंदबाजी कर लेते हैं। इसके अलावा टीम में तीन स्पिनर कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल और रवींद्र जडेजा मौजूद हैं। इनके अलावा केदार जाधव भी उपयोगी गेंदबाजी कर लेते हैं इसलिए चौथा स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाज नहीं चुना गया।

रवींद्र जडेजा को इसलिए मिला मौका

रवींद्र जडेजा को चुने जाने के बारे में प्रसाद ने कहा कि जडेजा ने समय-समय पर अपनी उपयोगिता साबित की है। इंग्लैंड में जैसे-जैसे विश्व कप आगे बढ़ेगा पिचें ड्राय होती जाएंगी ऐसे समय में जडेजा टीम के लिए महत्वपूर्ण बन जाएंगे। यदि किसी कारणवश कलाई के स्पिनर नहीं चल पाए तो वे गेंदबाजी आक्रमण में जान फूकेंगे।

भारतीय टीम - विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप कप्तान), शिखर धवन, केएल राहुल, विजय शंकर, महेंद्रसिंह धोनी, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, हार्दिक पांड्या, रवींद्र जडेजा, मोहम्मद शमी।