सिडनी। महान स्पिनर शेन वॉर्न ने भारत के खिलाफ तीन वनडे मैचों की सीरीज के लिए चुनी गई ऑस्ट्रेलियाई टीम को लेकर सिलेक्टर्स पर उंगलियां उठाई। उन्होंने कहा कि यह चयन विश्व कप को ध्यान में रखकर नहीं किया गया है। यह सीरीज 12 जनवरी से शुरू होगी।

ऑस्ट्रेलिया ने 14 सदस्यीय टीम की घोषणा की जिसमें पीटर सिडल, उस्मान ख्वाजा और नाथन लियोन की वापसी हुई है। वॉर्न ने ट्वीट किया, ऑस्ट्रेलियाई वनडे टीम में शामिल किए गए कुछ खिलाड़ियों और बाहर किए गए कुछ खिलाड़ियों के नाम देखकर धक्का पहुंचा। इनका कोई मतलब नहीं है। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में इस तरह के बकवास चयन पर रोक लगाई जानी चाहिए।

शुक्रवार को ऑस्ट्रेलियाई टीम के चयन के कुछ देर बाद 49 वर्षीय वॉर्न ने ऑलराउंडर डार्सी शॉर्ट को बाहर किए जाने पर हैरानी जताई। उन्होंने कहा, मैं विश्वास नहीं कर सकता हूं कि डार्सी को टीम से बाहर कर दिया गया है। मुझे नहीं मालूम उसकी गलती क्या रही। वो जबर्दस्त फॉर्म में है और एरोन फिंच के साथ शीर्षक्रम में टीम को अच्छी शुरुआत दिला सकते हैं।

वॉर्न ने कहा कि सिलेक्टर्स को मई-जून में होने वाले विश्व कप को ध्यान में रखकर टीम चुननी चाहिए थी। सिलेक्टर्स को उन खिलाड़ियों को मौका देना चाहिए था जो विश्व कप में खेलेंगे। वहां सपाट पिचें मिलेंगी जो थोड़ी बहुत स्पिनरों के लिए मददगार रहेगी। इसके चलते आपको कुछ झन्नाटेदार तेज गेंदबाज और कुछ चतुर गेंदबाज चुनने चाहिए थे। इसी तरह आक्रामक बल्लेबाजों और पिच पर टाइम गुजारने वाले कुछ बल्लेबाजों का उचित मिश्रण चुनना चाहिए था।

वॉर्न इसी तरह पीटर हैंड्सकॉम्ब के साथ किए जा रहे व्यवहार से भी खुश नहीं है। उन्होंने कहा, पीटर को टीम में चुने जाने से हमारे प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों के लिए गलत संदेश जाएगा। उन्हें तीसरे टेस्ट में बाहर किया गया था और फिर अचानक चौथे टेस्ट के लिए टीम में चुन लिया जाना किसी भी तरह से उचित नहीं हैं। किसी खिलाड़ी को बाहर करना और फिर एक सप्ताह के अंदर उसे वापस लेने को कैसे उचित ठहराया जा सकता है।