मल्टीमीडिया डेस्क। भारत के महेंद्रसिंह धोनी के लिए हैमिल्टन में रविवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरा टी20 मैच यादगार बन गया। धोनी ने इस मैच के लिए मैदान में उतरने के साथ ही स्पेशल उपलब्धि हासिल कर ली। यह धोनी का 300वां टी20 मैच था और वे यह उपलब्धि हासिल करने वाले भारत के पहले क्रिकेटर बन गए।

धोनी ने टी20 डेब्यू 1 दिसंबर 2006 को द. अफ्रीका के खिलाफ जोहान्सबर्ग में किया था। वे इस मैच से पहले 299 टी20 मैचों में 38.57 की औसत से 6134 रन बना चुके थे। इस दौरान उन्होंने 426 चौके और 268 छक्के लगाए थे।

धोनी जब सेडोन पार्क पर उतरे तो यह उनकी 96वां इंटरनेशनल टी20 मैच था। वे इसके अलावा 169 मैच चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से खेल चुके हैं। इनमें से 145 मैच उन्होंने आईपील में और 24 मैच चैंपियंस लीग में खेले थे। वे इसके अलावा 30 मैच राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स की तरफ से खेले थे। इसके अलावा उन्होंने 4 चार मैच झारखंड की तरफ से और 1 मैच विदेशी दौरे पर इंडियंस टीम की तरफ से खेला था।

भारत की तरफ से नंबर वन: धोनी भारत की तरफ से टी20 मैच खेलने के मामले में शीर्ष पर है। उनके 300 मैच हो चुके हैं। रोहित शर्मा उनके पीछे चल रहे है और उनके 298 मैच हो चुके हैं। सुरेश रैना 296 मैचों के साथ तीसरे क्रम पर है। यदि टी20 क्रिकेट में दुनिया में सबसे ज्यादा मैचों की बात की जाए तो यह रिकॉर्ड कैरेबियाई खिलाड़ी किरोन पोलार्ड के नाम दर्ज है, जो 2006 से लेकर अभी तक 446 मैच खेल चुके हैं। एक अन्य कैरेबियाई खिलाड़ी ड्वेन ब्रावो 429 मैचों के साथ दूसरे और न्यूजीलैंड के ब्रैंडन मॅक्कुलम 370 मैचों के साथ तीसरे क्रम पर है। क्रिस गेल 369 मैचों के साथ चौथे और शोएब मलिक 335 मैचों के साथ पांचवें क्रम पर हैं।