मैनचेस्टर। आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 के पहले सेमीफाइनल में भारत को हराकर न्यूजीलैंड लगातार दूसरी बार फाइनल में पहुंचा है। इस मैच भारत को अप्रत्याशित हार का सामना करना पड़ा। भारत की बल्लेबाजी नाकाम रही लेकिन मध्यक्रम में महेंद्र सिंह धोनी और रवींद्र जडेजा ने भारत के लिए थोड़ी उम्मीदें जगाई, लेकिन इन दोनों के आउट होते ही भारत का सपना टूट गया। फाइनल में पहुंचते ही न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने धोनी को लेकर अजीब सा बयान दिया।

मैच के बाद न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन से मीडिया ने पूछा कि यदि वे भारतीय टीम के कप्तान होते, तो क्या वे धोनी को प्लेइंग इलेवन में शामिल करते। विलियम्सन ने इसके जवाब में गोलमोल बातें की। उन्होंने कहा - धोनी न्यूजीलैंड की ओर से खेलने के काबिल नहीं हैं, लेकिन वे विश्व स्तर के खिलाड़ी हैं। अगर मैं भारतीय टीम का कप्तान होता तो इस स्‍तर पर उनका अनुभव और भी अधिक अहम होता। मैच के दोनों दिन धोनी ने टीम के लिए अहम योगदान दिया। मैं सच कहूं तो इस बड़े अभियान के दौरान उनके जैसा खिलाड़ी बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। विलियम्सन ने कहा- यदि धोनी अपनी राष्ट्रीयता बदलने का फैसला करते हैं तो हम उनके सिलेक्शन पर विचार करेंगे।

बता दें कि बारिश से बाधित रहा भारत-न्यूजीलैंड मैच दो दिनों तक खेला गया। पहले दिन जब न्यूजीलैंड ने बल्लेबाजी की तो भारत हावी रहा, लेकिन जब भारत की बल्लेबाजी शुरू हुई तो न्यूजीलैंड हावी हो गया। भारत ने केवल 5 रनोंं में 3 विकेट खोए और इन झटकों से टीम अंत तक उबर नहीं पाई। धोनी और जडेजा ने अंतिम समय में अच्छा संघर्ष किया। जडेजा ने जहां 77 रनों की शानदार पारी खेली, वहीं धोनी 50 रन बनाकर आउट हुए। धोनी और जडेजा ने 7वें विकेट के लिए 116 रनों की पार्टनरशिप कर भारत की उम्मीदें बनाए रखी थी। लेकिन बाद में बोल्ट ने जडेजा को केन विलियमसन के हाथों डीप में कैच आउट करा दिया। अगले ही ओवर में धोनी रन आउट हो गए। वे मार्टिन गप्टिल के डायरेक्ट थ्रो का शिकार बने। विलियम्सन ने अपनी जीत का श्रेय टीम के गेंदबाजों को दिया।