मल्टीमीडिया डेस्क। भारत के पूर्व कप्तान महेंद्रसिंह धोनी इन दिनों जबर्दस्त फॉर्म में चल रहे हैं। 37 वर्षीय माही मैच दर मैच नए कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं और इंग्लैंड के खिलाफ गुरुवार को होने वाला पहला अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच भी शायद ही इससे अछूता रहे। नॉटिंघम वनडे में 33 रन बनाने के साथ ही माही एक स्पेशल वर्ल्ड रिकॉर्ड बना देंगे।

धोनी अपने वनडे करियर में अभी तक 318 मैचों में 51.37 की औसत से 9967 रन बना चुके हैं। इसमें उनके 10 शतक और 67 अर्द्धशतक शामिल है। धोनी को 10000 वनडे रन पूरे करने के लिए 33 रन और बनाने होंगे। यदि वे ऐसा करने में कामयाब होते हैं तो 10000 क्लब में शामिल होने वाले चौथे भारतीय और दुनिया के 12वें खिलाड़ी होंगे। उनसे पहले भारत के सचिन तेंडुलकर, सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ इस समूह में शामिल हो चुके हैं।

धोनी यदि यह उपलब्धि हासिल कर लेते है तो वे 10000 वनडे रन 50 से ज्यादा के औसत से बनाने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटर हो जाएंगे। अभी 10000 से ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों में सबसे ज्यादा औसत सचिन तेंडुलकर का है, जिन्होंने 463 मैचों में 44.83 की औसत से सर्वाधिक 18426 रन बनाए हैं। इसके बाद द. अफ्रीका के जैक्स कैलिस ने 328 मैचों में 44.36 की औसत से 11579 रन बनाए।

10000 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय वनडे रन

18426 रन : सचिन तेंडुलकर (भारत - 463 मैच)

14234 रन : कुमार संगकारा (श्रीलंका - 404)

13704 रन : रिकी पोंटिंग (ऑस्ट्रेलिया - 375)

13430 रन : सनत जयसूर्या (श्रीलंका - 445)

12650 रन : महेला जयवर्धने (श्रीलंका - 448)

11739 रन : इंजमाम उल हक (पाकिस्तान - 378)

11579 रन : जैक्स कैलिस (द. अफ्रीका - 328)

11363 रन : सौरव गांगुली (भारत - 311)

10889 रन : राहुल द्रविड़ (भारत - 344)

10405 रन : ब्रायन लारा (वेस्टइंडीज - 299)

10290 रन : तिलकरत्ने दिलशान (श्रीलंका - 330)

लकी साबित हो रहा इंग्लैंड दौरा :

धोनी के लिए इंग्लैंड का यह दौरा बहुत लाभदायक साबित हो रहा है। इंग्लैंड के खिलाफ 3 जुलाई को मैनचेस्टर में पहले टी20 मैच में धोनी अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में सबसे ज्यादा स्टम्पिंग करने वाले विकेटकीपर बने। उन्होंने कामरान अकमल का रिकॉर्ड तोड़ा था। इसके बाद ब्रिस्टल में इंग्लैंड के खिलाफ तीसरा टी20 उनके लिए बहुत उपलब्धियों वाला रहा। इस मैच में धोनी ने 5 कैच लपकते हुए विश्व कीर्तिमान बनाया था। इसके अलावा वे अंतरराष्ट्रीय टी20 क्रिकेट में 50 कैच लपकने वाले पहले विकेटकीपर बने थे।