इंदौर। हितों के टकराव के आरोपों का सामना कर रहे मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर और वीवीएस लक्ष्मण को बीसीसीआई के लोकपाल जस्टिस डीके जैन ने 14 मई को व्यक्तिगत रूप से पेश होने के लिए दिल्ली बुलाया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार शिकायतकर्ता इंदौर निवासी मप्र क्रिकेट संगठन (एमपीसीए) के सदस्य संजीव गुप्ता और बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी को भी व्यक्तिगत रूप से पक्ष रखने बुलाया गया है।

गुप्ता की शिकायत के अनुसार तेंडुलकर और लक्ष्मण बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति के सदस्य होने के अलावा आईपीएल टीम मुंबई इंडियंस और सनराइजर्स हैदराबाद से भी जुड़े हैं। सचिन जहां मुंबई इंडियंस के आइकॉन हैं वहीं लक्ष्मण हैदराबाद टीम के मेंटर हैं। दोनों ही खिलाड़ियों ने हितों के टकराव के आरोपों को गलत बताया है।

बोर्ड के एक अधिकारी के अनुसार लोकपाल द्वारा प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत के तहत सचिन और लक्ष्मण को दिल्ली में व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने के लिए बुलाया गया है। समय और स्थान बाद में तय होंगे। जौहरी को इसलिए बुलाया गया है क्योंकि बीसीसीआई भी एक पक्ष है। पहले रिपोर्ट आई थी कि बीसीसीआई सुनवाई में शामिल नहीं होगा क्योंकि सीएसी उसकी सह समिति है। ऐसे में माना जा रहा है कि जौहरी सीओए के प्रतिनिधि के रूप में मौजूद रहेंगे।