नई दिल्ली। मोहम्मद शमी के फिटनेस टेस्ट में फेल होने की वजह से दिल्ली के तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को अफगानिस्तान के खिलाफ बेंगलुरु टेस्ट मैच के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया। नवदीप भारतीय क्रिकेट में एक जाना-पहचाना नाम नहीं है, इसलिए कई फैंस हैरान है कि अचानक यह गेंदबाज भारतीय टीम में कैसे जगह बना गया।

25 वर्षीय सैनी दाएं हाथ के तेज गेंदबाज है और उन्होंने 21 वर्ष की उम्र में 2013-14 के रणजी सत्र के दौरान दिल्ली की तरफ से डेब्यू किया था। उनकी झन्नाटेदार गेंदें पिछले काफी समय से सिलेक्टर्स का ध्यान खींच रही थी। नवदीप ने टेनिस गेंद क्रिकेट से लेकर भारतीय टीम का सफर तय कर लिया है और यह सफर भी कम संघर्षपूर्ण नहीं रहा। नवदीप टेनिस बॉल क्रिकेट टूर्नामेंट में मैच खेलते थे और उन्हें प्रतिमैच के लिए 250 से 500 रुपए तक पॉकेट मनी मिलती थी।

सैनी की खास बातें

  • 1. नवदीप हरियाणा के करनाल के रहने वाले हैं और गरीब पृष्ठभूमि से आते हैं।
  • 2. क्रिकेट कोचिंग अकादमी की फीस का खर्च नहीं उठा पाने के चलते सैनी ने टेनिस गेंद क्रिकेट टूर्नामेंट में हिस्सा लिया और उसकी इनामी राशि से करनाल प्रीमियर लीग में नाम लिखवाया।
  • 3. इस लीग के दौरान दिल्ली के सुमित नरवाल ने सैनी की प्रतिभा को पहचाना और उन्हें दिल्ली लेकर आए।
  • 4. सैनी 2017 में भारत 'ए' की तरफ से दक्षिण अफ्रीका 'ए' और न्यूजीलैंड 'ए' के खिलाफ खेले। वे इसी वर्ष दुलीप ट्रॉफी में भी शामिल हुए।
  • 5. सैनी की घातक गेंदबाजी की मदद से दिल्ली 2017-18 रणजी सत्र के फाइनल में पहुंची। सैनी ने 34 विकेट लिए।
  • 6. सैनी लगातार 140 किमी प्रति घंटे की ज्यादा रफ्तार से गेंदबाजी कर लेते हैं।