मल्लापुरम। एक तरफ वनडे क्रिकेट में जहां 500 रन बनने की उम्मीद की जा रही हैं, वहीं बालिकाओं के एक मैच में पूरी टीम 4 रनों पर आउट हो गई। इस मैच की खासियत यह रही कि एक भी बल्लेबाज खाता नहीं खोल पाई और टीम का स्कोर अतिरिक्त रनों के जरिए बना। बालिका अंडर-19 इंटर जिला वर्ग का यह मैच स्थानीय पेरिनथलमन्ना स्टेडियम में गुरुवार को कसारागोड और वायनाड के बीच खेला गया। संयोग से आउट होने वाली कसारागोड की सभी बल्लेबाज क्लीन बोल्ड हुई।

क्रिकेट इतिहास में एक मैच की किसी पारी में सभी बल्लेबाजों का एक ही तरीके से आउट होने का संभवतः यह पहला मामला है। टीम के कुल स्कोर में 4 रन प्रतिद्वंद्वी टीम के अतिरिक्त रन देने के कारण बने। बाद में वायनाड ने एक ओवर में 5 रन का लक्ष्य बिना कोई विकेट खोए प्राप्त कर लिया। दो ओवर बाद बिगड़े हालात : इस मैच में कसारागोड की कप्तान एस. अक्षता ने टॉस जीता और बल्लेबाजी का फैसला किया। हालांकि उनका यह फैसला गलत साबित हुआ। टीम की ओपनर विक्षिता और एस. चित्रा ने 2 ओवर तक बल्लेबाजी की, लेकिन दोनों ही अपना खाता नहीं खोल पाईं। तीसरे ओवर में वायनाड की कप्तान नित्या ने दोनों ओपनरों के अलावा के. रंजीता को भी पैवेलियन भेज दिया। अगले दो ओवर में कसारागोड ने अपने 3 विकेट और गंवा दिए। इसके बाद आईं अन्य बल्लेबाज बिना खाता खोले ही पैवेलियन लौट गईं।

दो रन पर आउट हो चुकी टीम : फरवरी 2017 में बालिका अंडर-19 वर्ग के मैच केरल के खिलाफ नगालैंड की टीम सिर्फ 2 रन बनाकर पैवेलियन लौट गई थी। तब नगालैंड की ओपनर मेनका सिर्फ 1 रन ही बना पाईं थीं जबकि एक रन वाइड से बना था। अन्य नौ बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सकी थीं। केरल ने 50 ओवर के मैच में 299 गेंद शेष रहते मैच जीत लिया था।