ड्‍यूनेडिन। पाकिस्तान शनिवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे वन मैच में शर्मनाक रिकॉर्ड बनाने से बच गया। न्यूजीलैंड ने ट्रेंट बोल्ट की घातक गेंदबाजी की मदद से इस मैच में 183 रनों से धमाकदेार जीत दर्ज करते हुए पांच मैचों की सीरीज में 3-0 की अपराजेय बढ़त बनाई। 258 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पाकिस्तान की पारी 74 रनों पर सिमटी।

इन्होंने बचाई पाक की लाज

इस मैच में टॉस जीतकर मेजबान ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। न्यूजीलैंड की टीम ने निर्धारित 50 ओवर में 257 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। 258 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम मात्र 74 रन पर ढेर हो गई। पाकिस्तान ने 32 रन के स्कोर पर अपने 8 विकेट गंवा दिए थे। ऐसा लग रहा था कि आज तो उसके नाम वनडे क्रिकेट में न्यूनतम स्कोर पर आउट होने का शर्मनाक रिकॉर्ड दर्ज हो जाएगा, चार पुछल्ले बल्लेबाजों ने दहाई का आंकड़ा बनाते हुए टीम को शर्मनाक स्थिति से उबारा। कप्तान सरफराज अहमद (14) के अलावा रूम्मन रईस (16), फहीम अशरफ (10) और मोहम्मद आमिर (14) ने उपयोगी योगदान दिया। बोल्ट ने पाकिस्तान के 5 बल्लेबाज़ों को पवेलियन की राह दिखाई। इसके साथ ही साथ कॉलिन मुनरो और लोकी फर्ग्युसन ने भी 2-2 विकेट चटकाए।

इस रिकॉर्ड से बाल-बाल बचा पाकिस्तान

74 रन पर आल आउट होकर पाकिस्तान की टीम ने इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट में सबसे कम स्कोर पर आउट होने से शर्मनाक रिकॉर्ड से बचा लिया। वनडे में यह पाकिस्तान का अपना तीसरा सबसे कम स्कोर रहा। इससे पहले साल 1992 में इंग्लैंड के खिलाफ भी पाकिस्तानी टीम 74 रन पर ढेर हो गई थी। जनवरी 1993 में वेस्ट इंडीज ने पाकिस्तान को 71 रन पर समेट दिया था, जो उसका वनडे में दूसरा न्यूनतम स्कोर है। फरवरी 1993 में केपटाउन में खेले गए इंटरनैशनल वनडे में वेस्टइंडीज ने पाकिस्तान को 43 रन पर ढेर किया था।

जिम्बाब्वे का भी टूट सकता था रिकॉर्ड

पाकिस्तान ने 32 रन के स्कोर पर अपने 8 विकेट गंवा दिए थे। ऐसा लग रहा था कि पाकिस्तान की टीमइंटरनेशनल वनडे क्रिकेट में सबसे कम स्कोर पर आउट होने के जिम्बाब्वे के रिकॉर्ड को तोड़ देगी। जिम्बाब्वे की टीम के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 35 रन पर आल आउट होने का रिकॉर्ड दर्ज़़ है। जिम्बाब्वे ने ये शर्मनाक रिकॉर्ड श्रीलंका के खिलाफ साल 2004 में हरारे में खेले गए वनडे मैच में बनाया था। उस मैच में कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू सका था