मुंबई। क्रिकेटर युसूफ पठान भले ही पहले डोप अपराध के लिए बीसीसीआई द्वारा लगाया गया पांच महीने का पूर्वप्रभावी प्रतिबंध जल्दी ही पूरा कर लेंगे लेकिन विश्व डोपिंग निरोधक एजेंसी (वाडा) के प्रोटोकाल के तहत मामला अभी-भी लंबित है।

भारतीय हरफनमौला यूसुफ पर डोप टेस्ट में नाकाम रहने के कारण पांच महीने का पूर्वप्रभावी प्रतिबंध लगाया गया था, जो 14 जनवरी को खत्म होने वाला है। वाडा के मीडिया और कम्युनिकेशंस मैनेजर मैगी डूंरड ने कहा- चूंकि यह मामला लंबित है तो हम इस पर टिप्पणी नहीं कर सकते। वाडा की डोपिंग आचार संहिता 2015 के तहत्‌ पहली बार अपराध पर चार साल के निलंबन का प्रावधान है।

बीसीसीआई ने स्वीकार कर ली थी दलील : बीसीसीआई ने यूसुफ की यह दलील स्वीकार कर ली थी कि उन्होंने अनजाने में प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन किया है। जो आम तौर पर सर्दी-खांसी के सिरप में पाया जाता है।

पिछले साल लिया था नमूना : यूसुफ ने पिछले साल 16 मार्च को बड़ौदा और तमिलनाडु के बीच एक घरेलू टी-20 मैच के बाद बीसीसीआई के डोपिंग निरोधक परीक्षण कार्यक्रम के तहत्‌ मूत्र का नमूना दिया था। जांच में उनके नमूने में टर्बुटेलाइन के अंश मिले। यह वाडा के प्रतिबंधित पदार्थों की सूची में आता है।