नई दिल्ली। सचिन तेंडुलकर के बारे में अपने 'दुस्वप्न' को मजाक बताने के आठ वर्षों बाद दिग्गज स्पिनर शेन वॉर्न ने बुधवार को कहा कि जिंदगी की खातिर बल्लेबाजी के लिए वे इस भारतीय स्टार को ही चुनेंगे। वॉर्न ने तेंडुलकर और ब्रायन लारा के बीच तुलना के विवाद में पड़ने से इन्कार करते हुए किसी को भी अपनी पीढ़ी का सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज नहीं चुना, लेकिन उन्होंने इतना कहा कि अगर जिंदगी दांव पर लगी हो और इसके लिए किसी को बल्लेबाजी करने की बात आएगी तो वह निश्चित रूप से तेंडुलकर को चुनना चाहेंगे।

वार्न ने अपनी आत्मकथा "नो स्पिन" के बारे में बात करते हुए कहा, "सचिन तेंडुलकर और ब्रायन लारा हमारी पीढ़ी, मेरे समय के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज थे। टेस्ट सीरीज के अंतिम दिन शतक जड़ने के लिए मैं किसी को चुनना चाहूंगा तो मैं लारा को बल्लेबाजी के लिए भेजूंगा, लेकिन अगर मैं अपनी जिंदगी की खातिर बल्लेबाजी के लिए भेजना चाहूंगा तो मैं तेंडुलकर को चुनूंगा जो बेहतरीन हैं।"

तेंडुलकर ने 1998 में शारजाह में तीन देशों के टूर्नामेंट में इस ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज की गेंदों को धुन दिया था। इसके बाद वॉर्न ने यहां तक कह दिया था कि उन्हें तेंडुलकर के बारे में दुस्वप्न आते हैं। हालांकि, 2010 में इस ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कहा कि उन्होंने मजाक में यह बात कही थी। अपनी आत्मकथा में उन्होंने सट्टेबाजों के आरोपों, अपने बच्चों और रिश्तों के बारे में लिखा है। उन्होंने यह भी कहा कि टेस्ट मैचों में अन्य देशों की तुलना में भारत में उनके खराब रिकार्ड का असर उन पर नहीं पड़ता।