नई दिल्ली। 2013 आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में सुप्रीम कोर्ट द्वारा आजीवन प्रतिबंध हटाए जाने पर पूर्व क्रिकेटर एस श्रीसंत ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि वे मैदान में वापसी के लिए तैयार हैं।

जस्टिस अशोक भूषण और केएम जोसेफ की बेंच ने शुक्रवार को श्रीसंत पर बीसीसीआई की अनुशासन समिति द्वारा लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को हटा दिया था। कोर्ट ने बीसीसीआई की अनुशासन समिति से तीन महीने के अंदर श्रीसंत की सजा की अवधि पर पुनर्विचार करने को कहा।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर पहली प्रतिक्रिया देते हुए श्रीसंत ने कहा, मैं बहुत खुश हूं कि मुझ पर से आजीवन प्रतिबंध हट गया है। बीसीसीआई को 90 दिनों के अंदर मेरी सजा की अवधि के बारे में पुनर्विचार करने को कहा गया है। मैं पहले की काफी लंबी सजा काट चुका हूं। मैंने पिछले कुछ दिनों से ट्रेनिंग शुरू कर दी है और अब मैं मैदान पर वापसी करने को तैयार हूं।

उन्होंने कहा, मैं भले ही कई वर्षों से मैदान से दूर हूं लेकिन मुझे अपनी काबिलियत पर विश्वास है। बीसीसीआई का घरेलू सत्र अक्टूबर-नवंबर में शुरू होगा। केरल की टीम ने पिछले सत्र में शानदार प्रदर्शन किया था और मैं अपनी तरफ से टीम में वापसी के लिए पुरजोर कोशिश करुंगा। मैं अभी 36 साल का हूं और मुझसे ज्यादा उम्र में कई खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में खेलते रहे हैं। वैसे भी चोट के कारण वर्षों बाहर रहने के बाद भी क्रिकेटर वापसी करते हैं।

श्रीसंत ने 25 अक्टूबर 2005 को नागपुर में श्रीलंका के खिलाफ वनडे मैच के दौरान इंटरनेशनल डेब्यू किया था। श्रीसंत ने 27 टेस्ट मैचों में 37.59 की औसत से 87 विकेट लिए थे। वे 53 वनडे में 33.44 की औसत से 75 विकेट ले चुके थे। उन्होंने ओवल में अगस्त 2011 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच खेला था, जो उनका अंतिम इंटरनेशनल मैच था।