सिडनी। हार्दिक पांड्या और केएल राहुल की 'गंदी' बात पर कप्तान विराट कोहली ने प्रतिक्रिया दी है। एक टीवी शो के दौरान इन दोनों खिलाड़ियों की टिप्पणियों को कप्तान ने खारिज करते हुए कहा है, मैं ऐसी बातों का समर्थन नहीं करता, लेकिन यह भी कहा कि इस सबके बावजूद उनकी टीम के प्रति जो भावना है उसमें कमी नहीं आएगी।

बकौल कोहली, भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा होने और जिम्मेदार क्रिकेटर होने के नाते हम उनके विचारों से इत्तेफाक नहीं रखते। वह उनके निजी विचार हैं।'

बता दें कि करण जौहर के शो कॉफी विद करण में इन दोनों खिलाड़ियों ने अपने निजी जीवन में महिलाओं को लेकर खुलकर बातें की थी और उनमें आपत्तिजनक टिप्पणियां भी थी। इसे लेकर काफी विवाद हुआ। सोशल मीडिया पर दोनों खिलाड़ियों को क्रिकेट फैन्स ने जबर्दस्त लताड़ भी लगाई। इसके बाद COA प्रमुख विनोद राय ने दोनों क्रिकेटरों पर 2 मैचों का प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की है। इसके अलावा COA सदस्य डायना इडुलजी ने भी इस मामले को बीसीसीआई की लीगल सेल के पास भेजा है।

मामला सामने आने के बाद बीसीसीआई ने पंड्या और राहुल दोनों को नोटिस जारी कर जवाब मांगे थे। इसी दौरान इन खिलाड़ियों ने महिलाओं को लेकर की गई टिप्पणी के लिए विनम्रतापूर्वक माफी मांगी थी। बावजूद इसके दोनों के बर्ताव और टिप्पणियों के लेकर नाराजगी कम नहीं हुई।

विनोद राय ने बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी और CoA सदस्य डायना इडुलजी को लिखे पत्र में कहा कि खिलाड़ियों की ओर से जो माफीनामा आया है वो उनकी एजेंसी ने तैयार कर दिया है। उसे देखकर ये नहीं लगता कि वे माफी के प्रति गंभीर हैं। मेरा सोचना है कि दोनों को सजा दी जानी चाहिए।

राय ने आगे लिखा कि वे दोनों खिलाड़ियों पर 2 मैच के प्रतिबंध की सिफारिश करते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया के जरिए उन्होंने शो के क्लिपिंग देखे। मेरे ख्याल से जो टिप्पणियां की गई उसके लिए कोई माफी नहीं हो सकती। यदि डायना सहमति देती हैं तो बीसीसीआई सीईओ को चाहिए कि वे दोनों को 2 मैचों के लिए प्रतिबंधित करें।

पांड्या ने ये दिया था जवाब

बीसीसीआई के नोटिस के जवाब में पांड्या ने लिखा कि उन्हें नहीं पता था कि उनकी टिप्पणी असभ्य मानी जाएगी। उस समय मुझे ये पता नहीं था कि इन्हें अपमानजनक करार दिया जाएगा और इससे दर्शकों की भावनाओं को ठेस लगेगी। पर ऐसा हुआ और इसके लिए मैं विनम्रतापूर्वक माफी मांगता हूं। मैं इस तरह का बर्ताव कभी नहीं करूंगा।