एम्सटरडम। डच क्लब अजाक्स बुधवार को यूएफा चैंपियंस लीग के सेमीफाइनलके दूसरे चरण में इंग्लिश क्लब टॉटनहम को हराकर फाइनल में पहुंचने के इरादे से मैदान में उतरेगा। अजाक्स ने पहला चरण 1-0 से जीता था और वह दूसरा चरण जीतकर इतिहास रचना चाहेगा।

अजाक्स क्लब का इरादा इस साल तिहरा खिताब हासिल करने का है। वह डच कप जीत चुका है और डच चैंपियनशिप में शीर्ष पर चल रहा है। इस चैंपियनशिप में उसे पीएसवी टक्कर दे रही हैं। अजाक्स की निगाहें अब चैंपियंस लीग खिताब पर टिक गई है। वह 1996 के बाद पहली बार यह खिताब हासिल करना चाहता है। इस सत्र में वह रीयल मैड्रिड और जुवेंटस जैसे क्लबों को हरा चुका है।

मैनेजर टेन हैग का महत्वपूर्ण रोल : अजाक्स को सेमीफाइनल तक पहुंचाने में माथिस डि लिट, फ्रैंकी डि जोंग और वान डि बीक जैसे खिलाड़ियों ने दमदार खेल दिखाया लेकिन उसके इस विजयी क्रम में मैनेजर टेन हैग की महत्वपूर्ण भूमिका है। । बतौर खिलाड़ी उन्हें 2001 में डच कप के रूप में इकलौती सफलता हाथ लगी थी, लेकिन 2017 में अजाक्स के साथ जुड़े टेन हैग ने अपनी सफलताओं से सबको प्रभावित किया है। टेन हैग मैनचेस्टर सिटी के मौजूदा मैनेजर और बायर्न म्यूनिख के पूर्व मैनेजर पेप गॉर्डियोला के शिष्य माने जाते हैं। जर्मनी में सहायक के तौर पर वह पेप के साथ काम कर चुके हैं।

सोन की वापसी से टॉटनहम को मिलेगा बल : निलंबन की वजह से टॉटनहम के स्टार स्ट्राइकर सोन ह्यूंग मिन सेमीफाइनल के पहले चरण में नहीं खेल पाए थे। वे दूसरे चरण में मैदान पर होंगे और टीम को उनसे शानदार प्रदर्शन की उम्मीद रहेगी।

सोन ने मैनचेस्टर सिटी के खिलाफ क्वार्टर फाइनल के दोनों चरण में तीन गोल करके अपनी टीम को अंतिम चार में पहुंचाया था। फिलहाल उनकी वापसी से मैनेजर मॉरिसियो पोचेटिनो की टीम फाइनल में पहुंचने की उम्मीद कर रही है क्योंकि टीम के अनुभवी स्टार हैरी केन पहले ही चोटिल होकर दोनों चरण के सेमीफाइनल से बाहर हो गए थे।