मॉस्को। मारियो मेंजुकिच के गोल की मदद से क्रोएशिया ने बुधवार को फुटबॉल विश्व कप के सेमीफाइनल में इंग्लैंड को 2-1 से हराकर फाइनल में जगह बनाई। क्रोएशिया पहली बार विश्व कप फाइनल में पहुंचा, जहां रविवार को उसका मुकाबला पूर्व चैंपियन फ्रांस से होगा।

चौथे मिनट में क्रोएशियाई बॉक्स के ठीक बाहर जेसी लिनगार्ड को गिराया गया, जिसके फलस्वरुप इंग्लैंड को फ्रीकिक मिली। किरेन ‍ट्रिपेयर ने पांचवें मिनट में इस पर शानदार गोल दागा, क्रोएशियाई गोलकीपर डेनियल सुबासिच को जगह से हिलने का मौका भी नहीं मिला और गेंद जाली के बाई तरह कॉर्नर में पहुंच गई। यह ट्रिपेयर का पहला अंतरराष्ट्रीय गोल है और उन्होंने इस महत्वपूर्ण मुकाबले में गोल दागकर इसे यादगार बना लिया।

नौवें मिनट में क्रोएशिया को कॉर्नर मिला जिसे क्लियर कर दिया गया। इंग्लैंड ने इस टूर्नामेंट में पहली बार मैच की इतनी आक्रामक शुरुआत की। 14वें मिनट में इंग्लैंड मौके का लाभ नहीं उठा पाया। 30वें मिनट में इंग्लैंड के कप्तान हैरी केन को गोल करने का सुनहरा मौका था, लेकिन वे इसका लाभ नहीं उठा पाए। 32वें मिनट में क्रोएशिया ने हमला बोला, लेकिन रेबिक के पास को गोलकीपर पिकफोर्ड ने आसानी से पकड़ा। 36वें मिनट में हैरी केन ने मूव बनाया, उन्होंने बॉक्स के कॉर्नर पर लिनगार्ड को गेंद सौंपी जो उसे नेट में नहीं पहुंचा पाए। हाफ टाइम तक इंग्लैंड 1-0 से आगे था।

मारियो को यलो कार्ड

दूसरे हाफ में क्रोएशिया ने शुरू से ही आक्रामक अंदाज में शुरुआत की, लेकिन उसके हमले कामयाब नहीं हो पा रहे थे। क्रोएशिया के मारियो मेंडुविच को 48वें मिनट में यलो कार्ड दिखाया गया। इंग्लैंड के काइल वॉकर को 54वें मिनट में यलो कार्ड दिखाया गया। 68वें मिनट में सिमे सिजिको ने राइट विंग से क्रॉस दिया, जिस पर पेरिसिच ने काइल वॉकर से ज्यादा लंबी जंग लगाकर क्रोएशिया के लिए बराबरी का गोल दागा। क्रोएशिया 72वें मिनट में बढ़त ले लेता यदि पेरिसिच का शॉट राइट पोस्ट से टकराकर वापस नहीं लौटता। एंटे रेबिच रिबाउंड पर लाभ नहीं उठा पाए और गोलकीपर पिकफोर्ड ने गेंद क्लेक्ट कर ली।

इंग्लैंड को अतिरिक्त समय के नौवें मिनट में कॉर्नर मिला, जिस पर जॉन स्टोन्स के हैडर को इवान पेरिसिच ने गोल पोस्ट के ठीक पास क्लियर किया, गोलकीपर को तो कोई मौका नहीं था। अतिरिक्त समय के पहले हाफ के इंजुरी टाइम में क्रोएशिया बढ़त बना लेता यदि इंग्लैंड के गोलकीपर पिकफोर्ड ने मेंजुकिच के प्रयास पर शानदार बचाव नहीं किया होता।

क्रोएशिया का इस विश्व कप के नॉकआउट में लगातार तीसरा मैच एकस्ट्रा टाइम में गया। इससे पहले दोनों बार उसने पिछड़ने के बाद वापसी कर जीत दर्ज की थी।

इंग्लैंड की टीम आखिरी बार 1990 विश्व कप के सेमीफाइनल में पहुंची थी जहां उसे जर्मनी के खिलाफ पेनल्टी शूटआउट में शिकस्त मिली थी। वहीं उसके आठ साल बाद क्रोएशिया की टीम एक स्वतंत्र राष्ट्र के तौर पर अपना पहला विश्व कप खेलते हुए सेमीफाइनल में पहुंची थी जहां उसे फ्रांस के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था। क्रोएशिया ने अंतिम चार में जगह बनाकर सबको चौंकाया है।

आमने-सामने

कुल मैच : 08

इंग्लैंड जीता : 04

क्रोएशिया जीता : 03

ड्रॉ : 01

फीफा विश्व रैंकिंग

इंग्लैंड - 12

क्रोएशिया - 20