मल्टीमीडिया डेस्क। भारतीय क्रिकेट टीम जब शनिवार को लॉर्ड्‍स में इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में मैदान पर उतरेगी तो उनकी निगाहें सीरीज के साथ कई उपलब्धियों को हासिल करने पर टिकी रहेगी। नॉटिंघम मैच जीत चुका भारत इस मैच के साथ ही सीरीज में अपराजेय बढ़त बनाना चाहेगा।

आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर निगाहें :

विराट कोहली के जांबाजों ने यदि यह मैच जीत लिया तो इंग्लैंड को पीछे छोड़ भारत आईसीसी रैंकिंग में नंबर वन बन जाएगा। इस लिहाज से देखा जाए तो यह मुकाबला भारतीय टीम के लिए बेहद महत्वपूर्ण बन गया है। रैंकिंग में इस वक्त इंग्लैंड 125 अंकों के साथ पहले और भारत 123 अंकों के साथ दूसरे क्रम पर हैं।

लगातार 10वीं सीरीज का मौका :

यदि भारत ने दूसरा मैच जीत लिया तो उसका सीरीज पर कब्जा हो जाएगा। यदि ऐसा हुआ तो यह भारत की लगातार 10वीं द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीत होगी। वह यह उपलब्धि हासिल करने वाला वेस्टइंडीज के बाद सिर्फ दूसरा देश होगा। वेस्टइंडीज ने मई 1980 से मार्च 1988 के बीच लगाातर 14 द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीती थी। टीम इंडिया इस सूची में अभी लगाताार 9 सीरीज जीत के साथ दूसरे स्थान पर चल रही है।

भारत ने लगातार सीरीज जीत का यह सिलसिला जिम्बाब्वे में जून 2016 में शुरू किया था। भारत ने जिम्बाब्वे में यह सीरीज 3-0 से जीती। टीम इंडिया ने इसके बाद अक्टूबर 2016 मे अपने घर में न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया। भारत ने जनवरी 2017 में इंग्लैंड को 2-1 से हराकर सीरीज जीत की हैट्रिक पूरी की।

भारत ने इसके बाद जून 2017 में वेस्टइंडीज को उसी के घर में 3-1 से शिकस्त दी। भारत की जीत का सिलसिला श्रीलंका में जारी रहा, जहां उसने अगस्त 2017 में पहली बार इस पड़ोसी देश का सफाया किया। यह भारत की लगातार पांचवीं सीरीज जीत थी।

विराट के जांबाजों ने इसके बाद सितंबर 2017 में ऑस्ट्रेलिया को 4-1 से हराकर द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीत का छक्का लगाया। अक्टूबर 2017 में भारत दौरे पर आई न्यूजीलैंड टीम को 2-1 से हार का सामना करना पड़ा। भारत ने इसके बाद दिसंबर 2017 में श्रीलंका को 2-1 से शिकस्त दी। टीम इंडिया ने फरवरी 2018 में दक्षिण अफ्रीका को उसी के घर में 5-1 से रौंदा। अब इंग्लैंड को हराकर भारत खास उपलब्धि हासिल करने की तैयारी कर रहा है।