मल्टीमीडिया डेस्क। दिल्ली कैपिटल्स के युवा खिलाड़ी राहुल तेवटिया के लिए रविवार को आईपीएल 2019 में मुंबई इंडियंस के खिलाफ हुआ मैच यादगार बन गया। इस मैच के दौरान तेवटिया ने इतिहास रचा और वे सचिन तेंडुलकर, डेविड वॉर्नर और जैक्स कैलिस जैसे महान खिलाड़ियों के ग्रुप में शामिल हो गए। खास बात यह रही कि उन्होंने यह कमाल बल्लेबाजी या गेंदबाजी नहीं, बल्कि फील्डिंग में किया।

25 वर्षीय तेवटिया ने मुंबई इंडियंस की पारी में चार कैच लपके और वे इसी के साथ किसी आईपीएल में चार कैच लपकने वाले चौथे खिलाड़ी बन गए। आईपीएल में 6 साल बाद ऐसा हुआ कि कोई खिलाड़ी (विकेटकीपर नहीं) एक मैच में चार कैच लपकने में सफल हुआ।

तेवटिया के पहले शिकार बने मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा। रोहित ने ईशांत शर्मा की धीमी गेंद पर शॉट लगाया और डीप स्क्वेयर लेग बाउंड्री पर तेवटिया ने सामने की तरफ डाइल लगाकर उनका कैच लपका। तेवटिया के अगले शिकार किरोन पोलार्ड बने, उन्होंने किमो पॉल की गेंद पर स्वीपर कवर्स पर उनका कैच लपका। इसके बाद तेवटिया ने ट्रेंट बोल्ट की गेंद पर डीप मिडविकेट पर कृणाल पांड्या का कैच लपका, यह उनका इस पारी में तीसरा कैच था। युवराज सिंह मुंबई की तरफ से किला लड़ा रहे थे लेकिन वे कगिसो रबाडा की गेंद पर डीप मिडविकेट पर तेवटिया को कैच थमा बैठे और इसी के साथ तेवटिया ने इतिहास रच दिया। वे एक मैच में चार कैच लपकने वाले चौथे खिलाड़ी बन गए।

सचिन तेंडुलकर ने 2008 में मुंबई में कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ चार लपके थे, वे यह उपलब्धि पाने वाले पहले खिलाड़ी थे। डेविड वॉर्नर ने दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ से 2010 में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ इस करिश्मे को अंजाम दिया था। उन्होंने सचिन के रिकॉर्ड की बराबरी की थी।

2013 में कोलकाता नाइटराइडर्स के जैक्स कैलिस ने डेक्कन चार्जर्स के खिलाफ चार कैच लेने की उपलब्धि हासिल की थी। अब राहुल तेवटिया इस ग्रुप में शामिल हो गए।