नई दिल्ली। श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली आज के दौर के सभी बल्लेबाजों से काफी आगे हैं और महान बनने की राह पर हैं। रन मशीन कोहली के लिए 2018 का साल शानदार रहा। कोहली ने इस साल आईसीसी के टेस्ट और वन-डे के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर का खिताब जीता।

इस दौर के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन, ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ (प्रतिबंध के कारण बाहर चल रहे), इंग्लैंड के जो रूट को पीछे छोड़ते हुए कोहली ने बीते साल दमदार प्रदर्शन किया। वे वन-डे और टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाजों की सूची में शीर्ष पर काबिज हैं। संगकारा ने कहा है कि सचिन तेंडुलकर ने 463 वन-डे मैच खेल कर 49 शतक लगाए हैं, जबकि विराट ने 222 मैच, यानी उनसे आधे से भी कम मैच खेल कर 39 शतक लगाए हैं।

संगकारा ने कहा, विराट के खेल का हर पहलू सबसे अलग है। मुझे लगता है कि मौजूदा दौर के क्रिकेट में वह बाकी खिलाड़ियों से काफी आगे हैं। मैं यह भी कहना चाहूंगा कि कोहली अगर सर्वकालिक महानतम क्रिकेटर नहीं भी बने तो वे सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों की सूची में जरूर शामिल होंगे। विराट के नाम 77 टेस्ट मैचों में 25 टेस्ट शतक भी हैं। संगकारा खेल के हर प्रारूप में कोहली की कामयाबी को देखकर हैरान हैं। श्रीलंका के इस पूर्व कप्तान ने कहा, अगर आप देखें कि वह किस रफ्तार या लय से बल्लेबाजी करते हैं, तो यह बमुश्किल बदलता है। वे परिस्थितियों को काफी अच्छी तरह समझते हैं। वह खेल को लेकर काफी जुनूनी हैं। अगर आप मैदान पर उनका रवैया देखें तो यह एक व्यक्ति और बल्लेबाज के रवैये का प्रतिरूप ही नजर आता है।

संगकारा के पूर्व टीम साथी महेला जयवर्धने ने भी कोहली की तारीफ की। उन्होंने कहा कि जिस तरह वह 130 करोड़ लोगों की अपेक्षाओं का बोझ लेकर बल्लेबाजी करते हैं वह प्रशंसनीय है। जयवर्धने ने कहा, यह सिर्फ काबिलियत की बात नहीं है, लेकिन बड़ी बात यह भी है कि वह मैदान पर या उसके बाहर दबाव का सामना किस तरह करते हैं। हम सचिन के साथ बड़े हुए। उन्हें देखना एक अलग तरह का अनुभव था। अगली पीढ़ी के लिए यह जिम्मेदारी अब शायद विराट के कंधों पर है।