वाशिंगटन। हाल के वर्षों में महिलाओं के यौन उत्पीड़न की घटनाएं तेजी से बढ़ी हैं। सड़क पर आते-जाते उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना बड़ी समस्या बन गया है। इसी के मद्देनजर अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसा ब्रेसलेट बनाया है जो आभूषण के साथ हील उनकी सुरक्षा का भी काम करेगा। यूनिवर्सिटी ऑफ अलबामा एट बर्मिंघम के वैज्ञानिक रागिब हसन ने बताया, हमले के वक्त ज्यादातर मामलों में पीड़ित के पास मदद के लिए लोगों को इकट्ठा करने का कोई सुलभ रास्ता मौजूद नहीं होता। गैजेट आदि में भी बिना बटन दबाए पीड़ित किसी को बुला नहीं सकती। हमले में बेहोश हो जाने की स्थिति में तो यह और भी मुश्किल हो जाता है। लेकिन यह नया ब्रेसलेट इन सभी समस्याओं को दूर करेगा।"

तैयार किए गए ब्रेसलेट के नमूने में कई तरह के सेंसर का इस्तेमाल किया गया है। ये सेंसर व्यक्ति की गतिविधियों का विश्लेषण कर खुद ही खतरे को भांप लेते हैं और इससे तेज आवाज के साथ रोशनी निकलने लगती है। इस तरह यह हमलावर का डराने के साथ ही आसपास मौजूद लोगों को खतरे का सिग्नल भी दे दाता है। इस ब्रेसलेट में जीपीएस और माइक्रोफोन भी लगा है। खास बात यह है कि इस डिवाइस के साथ बनाए गए मोबाइल एप में आप पहले ही जरूरी कॉनटेक्ट नंबर चुन सकते हैं। संकट के समय यह ब्लूटूथ से उन नंबरों तक आपकी लोकेशन की जानकारी मैसेज के जरिये पहुंचा देगा। फिलहाल इसे तैयार करने में 40 डॉलर का खर्च आया है लेकिन बड़ी संख्या में उत्पादन होने पर खर्च कम हो जाएगा।