नई दिल्ली। भारत के विभिन्न राज्यों में रविवार को आए तूफान में करीब 10 हजार लोगों ने खुद को सुरक्षित बताया। दरअसल, सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी फेसबुक ने सोमवार को 'सेफ्टी चेक' नाम का फीचर एक्टिवेट किया था। इसका इस्तेमाल कर हजारों यूजरों ने फेसबुक पर खुद को सुरक्षित मार्क किया।


उस दिन आंधी-तूफान और कई जगहों पर हुई ओला वृष्टि में उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और दिल्ली में कुल 53 लोगों की जान चली गई थी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इसकी पुष्टि की थी। इस तरह की आपदा के दौरान लोगों को सुरक्षित रखने के लिए फेसबुक ने क्राइसस रेस्पांस सेंटर बनाया है। इस सेंटर के सेफ्टी चेक टूल के जरिये फेसबुक यूजर अपने परिवार वालों व दोस्तों को आपदा के समय बता सकते हैं कि वे सुरक्षित हैं।

आपदा प्रभावित क्षेत्र के लोग यदि बड़ी संख्या में उससे जुड़ा पोस्ट करते हैं तो यह टूल एक्टिवेट हो जाता है। इसके जरिये यूजर भी पता लगा सकते हैं प्रभावित इलाके में उनके जो भी दोस्त रहते हैं वे सुरक्षित हैं या नहीं। फेसबुक के इस फीचर का इस्तेमाल कई देशों में आपदा और आंतकवादी हमले के दौरान किया जा चुका है।