मल्टीमीडिया डेस्क। जीमेल भारत में सबसे ज्यादा यूज होने वाली ईमेल सेवाओं में से एक है, इसे और बेहतर करने के लिए गूगल ने इनबॉक्स सर्विश शुरू की थी। लेकिन अब मीडिया में आ रही खबरों की माने तो कंपनी इसे बंद करने की तैयारी में है। खबरों के अनुसार गूगल ने मार्च 2019 तक अपन Inbox By Gmail को बंद करने की घोषणा कर दी है। ऐसे में देखा जाए तो वर्ष 2014 में लॉन्च हुए गूगल इनबॉक्स को 5 साल बाद बंद किया जा रहा है। गूगल ने यह दावा किया है कि वो सभी यूजर्स के लिए नए ईमेल सॉल्यूशन पर फोकस करेगा।

जानें Inbox By Gmail के बारे में:

इसे अक्टूबर 2014 में पेश किया गया था। इसका मुख्य फोकस स्मार्टर इमेल मैनेजमेंट एक्सपीरियंस था। इसमें बंडल ग्रुपिंग रिसिपेंट्स, स्टेटमेंट्स और मैसेज से संबंधित फीचर्स दिए गए हैं। इसके अलावा इसमें इमेल स्नूजिंग, फॉलो-अप समेत कई फीचर्स मौजूद हैं। लेकिन जब गूगल ने जीमेल को एक नया लुक दिया तो इसके इनबॉक्स में कई नए फीचर भी एड किए गए। लेकिन अब गूगल केवल जीमेल को बेहतर बनाने पर फोकस करना चाहती है और इसी के चलते Inbox By Gmail को बंद कर दिया जाएगा।

हालांकि, अभी यूजर्स के पास कुछ महीने है जीमेल इनबॉक्स इस्तेमाल करने के लिए। गूगल अपने यूजर्स को एक ट्रांजिशन गाइड उपलब्ध करा रहा है जिससे यूजर्स नए जीमेल में आसानी से स्विच कर पाएंगे।

इससे पहले Yahoo Messenger को 17 जुलाई को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। याहू ने कहा कि यूजर्स अपने सारे मैसेज 6 महीने तक डाउनलोड कर सकेंगे। कंपनी Yahoo Messenger की जगह एक नया इंस्टैंट मैसेजिंग एप Squirrel ला रही है। इस नई एप की बीटा टेस्टिंग के लिए यूजर्स अभी से अप्लाई कर सकते हैं। याहू मैसेंजर यूजर्स को अब Squirrel पर रिडायरेक्ट किया जा रहा है।

जानें क्यों बंद हुआ Yahoo:

Yahoo Messenger की वजह से ही वॉट्सऐप, फेसबुक मैसेंजर जैसे चैटिंग सर्विस को लोग पसंद करने लगे हैं। इसी की वजह से चैटिंग की दुनिया में क्रांति आ गई और इतने सारे मैसेजिंग एप्स और सेवा की शुरुआत हुई। 2000 के शुरुआती वर्षों में इटंरनेट का इस्तेमाल करने वाला हर यूजर Yahoo Messenger का इस्तेमाल किया करता था। आखिर, ऐसा क्या हुआ जिसकी वजह से Yahoo Messenger को बंद करना पड़ा।