सैन फ्रांसिस्को। ऐपल के आईफोन अपनी सुरक्षा के लिए पूरी दुनिया में मशहूर हैं और यह एक बड़ा कारण है कि उन्हें खरीदना लोग पसंद करते हैं। लेकिन यह सुरक्षा की खासियत कंपनी के लिए मुसीबत बन गई है। ऐपल के एक ग्राहक ने उसके स्मार्टफोन का लॉक खुलने में होने वाली देरी और अन्य परेशानियों के लिए कंपनी पर मुकदमा कर दिया है।

खबरों के अनुसार ऐपल के एक इनसाइडर ने कहा कि कैलीफोर्निया में जे ब्रोड्स्की द्वारा दाखिल किए गए मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि दो स्तरों वाले लॉक (टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन) को सक्रिय करने के लिए कंपनी ने उपयोगकर्ता से मंजूरी नहीं ली। दो स्तरों वाले लॉक का मतलब है कि यदि आपका पासवर्ड कोई चुरा लेता है तब भी सिर्फ आप ही फोन को खोल सकते हैं।

मुकदमे में आरोप लगाया गया है कि लॉक खुलने की यह प्रक्रिया काफी समय खाती है। स्मार्टफोन की लॉक प्रणाली एक दिक्कत यह भी है कि 14 दिनों तक दो स्तरों वाली सुरक्षा प्रणाली सक्रिय रहने के बाद इसे हटाया नहीं जा सकता।

शिकायतकर्ता ने अदालत से मांग की है कि कंपनी ने इस लॉक के जरिये जितने प्रकार के भी लाभ हासिल किए हैं, वे सभी उसे वापस किए जाएं और कंपनी के ऊपर कंप्यूटर फ्रॉड एंड एब्यूज एक्ट के तहत जुर्माना लगाया जाए। उसने कंपनी पर कैलीफोर्निया के इनवैजन ऑफ प्राइवेसी एक्ट का हनन करने का भी आरोप लगाया है। एपल ने इस मुद्दे पर अभी तक कोई टिप्पणी नहीं की है।