नई दिल्ली। वाट्सएप देश के सबसे लोकप्रिय मैसेजिंग एप पर वायरल कंटेंट को सीमित करने के लिए और कदम उठाएगा। कंपनी के न्यू इंडिया हेड अभिजीत बोस ने बुधवार को यह जानकारी दी। बोस देश के लिए पहली बार हायर किए गए शीर्ष स्तर के एग्जिक्यूटिव हैं। इस मैसेजिंग एप के वैश्विक यूजर बेस में भारत सबसे बड़ा हिस्सेदार है।

उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि प्राइवेट मैसेजिंग का मूल सिद्धांत सुरक्षा है। भारत में वह आम सुरक्षा लक्ष्य के लिए सभी भागीदारों के साथ मिलकर काम करेंगे। प्लेटफार्म पर प्रसारित होने वाली फर्जी सूचनाओं के मूल का पता लगाने के लिए संदेश तैयार करने वाले की पहचान करने को लेकर वाट्सएप पर सरकार का भारी दबाव है। खास तौर से अगले महीने होने जा रहे आम चुनाव को देखते हुए सरकार ने मैसेजिंग प्लेटफार्म पर दबाव बना रखा है।

पिछले वर्ष वाट्सएप पर फर्जी समाचार प्रसारित होने के बाद उन्मादी भीड़ हिंसा को बढ़ावा मिला। देश भर में करीब एक दर्जन ऐसी घटनाएं हुईं। बोस की नियुक्ति की घोषणा पिछले वर्ष नवंबर में की गई थी। उन्होंने 2019 में अपना काम शुरू किया।