नई दिल्ली। व्हाट्सएप पर फैल रही अफवाहों के कारण देश में हो रही हिंसक घटनाओं को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा दिखाई गई सख्ती का असर नजर आया है। सरकार द्वारा व्हाट्सएप को इस तरह के संदेशों पर रोक लगाने के निर्देश जारी किए जाने के बाद कंपनी ने मंगलवार को देशभर के अखबरों में विज्ञापन जारी किया है। इस विज्ञापन के माध्यम से कंपनी ने इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप पर आने वाले मैसेजेस के सही और गलत होने की पहचान करने का तरीका बताया है।

बता दें कि पिछले कुछ महीनों में व्हाट्सएप पर फैल रही बच्चा चोरी की खबरों और अफवाहों के कारण मारपीट के मामले सामने आए हैं जिनमें कई लोगों की मौत हो चुकी है। सरकार ने इन्ही पर लगाम लगाने के लिए सख्ती दिखाई थी।

हालांकि, सरकार द्वारा निर्देश जारी किए जाने के बाद कंपनी ने तकनीकी रूप से बदलाव की बात भी कही है लेकिन उससे पहले कंपनी ने यह मुहिम शुरू की है। अपनी इस मुहिम में व्हाट्सएप ने अपने यूजर्स से कहा है कि वो किसी भी मैसेज को आगे भेजने से पहले उसकी सत्यता की जांच जरूर कर लें। कंपनी ने यह भी कहा है कि किसी भी गलत जानकारी को एक साथ मिलकर दूर किया जा सकता है।

व्हाट्सएप ने दी है यह सलाह

- फॉरवर्ड किए गए संदेशों से सावधान रहें

- ऐसी जानकारी के तथ्यों पर सवाल उठाएं जो आपको परेशान करती हैं।

- ऐसी जानकारी की जांच करें जिन पर यकीन करना कठिन हो।

- ऐसे संदेशों से बचें जो अलग दिखते हों।

- संदेशों में मौजूद तस्वीरों को ध्यान से देखें।

- लिंक की जांच करें।

- अन्य स्त्रोतों का उपयोग करें।

- सोच समझकर संदेशों को फॉरवर्ड करें।

- आप जो देखना चाहते हैं उसे नियंत्रित करें।

- झूठी खबरें अक्सर फैलती हैं।