वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विदेशी साइबर हमले की आशंका को देखते हुए राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है। उन्होंने एक कार्यकारी आदेश जारी कर इसकी घोषणा की है। देश के कंप्यूटर्स को साइबर हमले से बचाने के लिए यह कदम उठाया गया है।

ट्रंप के इस आदेश के तहत अमेरिकी कंपनियों को विदेशी टेलीकॉम सेवाओं का इस्तेमाल करने से प्रतिबंधित किया गया है। हालांकि, आदेश में ट्रंप ने किसी कंपनी का नाम नहीं लिया है। आदेश में कहा गया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा को विदेशी टेलीकॉम सेवाओं से खतरा है।

हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि राष्ट्रपति ने ये कदम विशेष तौर पर चीनी टेलीकॉम कंपनी हुआवेई को लेकर उठाया है। बताते चलें कि हुआवेई टेलीकॉम कंपनी दुनिया की सबसे बड़ी नेटवर्क सप्लाई करने वाली कंपनी है, जिस पर सवाल उठाए जाते हैं कि इस कंपनी को चीन की सेना और सुरक्षा एजेंसियां चलाती हैं।

कई देशों का मानना है कि इसके उत्पादों का इस्तेमाल चीन निगरानी करने के लिए करता है। ट्रंप प्रशासन लगातार कोशिश करता रहा है कि हुआवेई कंपनी के प्रोडक्ट का इस्तेमाल अमेरिका के मित्र देश न करें। काफी हद तक अमेरिका को इस संबंध में सफलता भी मिली है। हालांकि, कंपनी इन बातों को खारिज करती रही है। कंपनी का कहना है कि उसके काम से किसी को कोई नुकसान नहीं होता है।


ट्रंप के इस फैसले पर व्हाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति के आदेश का मकसद अमेरिका की विदेशी दुश्मनों से रक्षा करना है, जो सक्रिय तौर पर संचार तकनीक और सूचनाओं के इस्तेमाल से अतिसंवेदनशील बने हुए हैं।