वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को प्रमुख नीति भाषण में देश के आव्रजन नीति (इमिग्रेशन पॉलिसी) को लेकर एक नए प्रस्ताव की घोषणा करेंगे। इसमें विदेशी नागरिकों को योग्यता के आधार पर प्राथमिकता देने की बात कही गई है। वर्तमान में पारिवारिक संबंधों के आधार पर इमिग्रेशन दिया जाता है। इस नई नीति का लाभ भारतीय लोगों को ज्यादा हो सकता है।

हजारों की तादाद में ग्रीन कार्ड का इंतजार कर रहे भारतीय पेशेवरों के लिए यह खबर राहत भरी हो सकती है। इसके तरह उच्च डिग्री धारक, अंग्रेजी बोलने वाले और पेशेवेर योग्यता रखने वाले लोगों के लिए आव्रजन प्रणाली को सुगम बनाया जाएगा। इस बात की जानकारी प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी है। राष्ट्रपति ट्रंप के दामाद जेरेड कुश्नेर की यह नई योजना मुख्य रूप से सीमा सुरक्षा को मजबूत करने और ग्रीनकार्ड तथा वैध स्थायी निवास प्रणाली को दुरुस्त करने पर केंद्रित है।

मौजूदा व्यवस्था के तहत करीब 66 फीसद उन लोगों को ग्रीन कार्ड दिया जाता है, जिनके अमेरिका में पारिवारिक संबंध हों। वहीं, योग्यता के आधार पर महज 12 फीसद लोगों को ही ग्रीन कार्ड की सुविधा मिल पाती है। ट्रंप प्रशासन इस नीति में बदलाव करना चाहता है। बताया जा रहा है कि ट्रंप की इस नई योजना को गुरुवार दोपहर व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में ऐलान किया जाएगा।

हालांकि, इस योजना को लागू करना मुश्किल भरा काम होगा। खासतौर पर आव्रजन सुधार के मुद्दे पर कांग्रेस के विभाजित होने पर। राष्ट्रपति यदि अपने रिपल्बिकन सांसदों को इस मुद्दे पर समझाने में सफल भी हो जाते हैं, तो भी सांसद नैंसी पेलोसी के नेतृत्व वाले डेमोक्रेट और दूसरे नेता इसके विरोध में खड़े होंगे। बताते चलें कि अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव नजदीक हैं। इस वक्त यहां आव्रजन एक महत्वपूर्ण मुद्दा बना हुआ है। ऐसे में ट्रंप की इस योजना का चुनाव पर भी असर पड़ेगा।