ढाका। बांग्लादेश के जानेमाने लेखक और प्रकाशक शहजहान बच्चू की अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी। यह घटना सोमवार शाम को मुंशीगंज जिले के काकाल्दी गांव में घटी। मुस्लिम बहुल बांग्लादेश में लंबे समय से कट्टरपंथियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले लेखकों की हत्या का सिलसिला थम नहीं रहा है।

60 वर्षीय बच्चू की सेक्युलर लेखक के रूप में पहचान थी और वह लेखन के साथ-साथ "बिश्का प्रोकशोनी" पब्लिशिंग हाउस भी चलाते थे। पुलिस के अनुसार घटना वाली शाम बच्चू अपने दोस्तों से मिलने घर के पास ही मेडिकल की दुकान पर गए थे। तभी पांच हमलावर दो बाइक पर सवार हो कर आए।

पहले उन्होंने मेडिकल शॉप के बाहर देशी बम फोड़ा। इससे वहां अफरा-तफरी का माहौल बन गया। उसके बाद वह बच्चू को शॉप से बाहर घसीटते हुए लाए और गोली मार दी। हत्या की अभी किसी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है। पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

हत्या के पीछे पुलिस को इस्लामिक कट्टरपंथियों का हाथ लगता है। बच्चू बांग्लादेश की कम्यूनिस्ट पार्टी के पूर्व जिला महासचिव थे। पहले भी कई लेखकों और ब्लॉगरों की हत्याएं बांग्लादेश में हो चुकी हैं। 26 फरवरी, 2015 में ब्लॉगर अविजीत रॉय की ढाका में हत्या कर दी गई थी। इसी साल अविजीत के पब्लिशर्स फैसल अरेफिन दीपन को बेरहमी से मार दिया गया।