न्यूयार्क। सॉफ्टवेयर कंपनी सेल्‍फ्रेम के मालिक अरुण पुडूर 40 वर्ष से कम उम्र के सबसे दौलतमंद एशियाई उद्यमी हैं। चेन्नई के मूल निवासी पुडूर 4 अरब डॉलर की निजी संपत्ति के साथ शीर्ष पर हैं। संपत्ति का आकलन करने वाली वैश्विक संस्था वेल्थ-एक्स ने सोमवार को अरबपति उद्यमियों की सूची जारी की है।

इसके मुताबिक, पुडूर शीर्ष पर हैं। दूसरे स्थान पर चीन के जाऊ याहुई हैं जिनकी कुल परिसंपत्ति 2.2 अरब डॉलर आंकी गई है।

सूची में चीन के उद्यमियों का दबदबा है। शीर्ष 10 में से 6 चीन और 3 जापान के हैं। इन सभी उद्यमियों ने अपने दम पर किस्मत बनाई है। 9 तकनीकी क्षेत्र से जुड़े हैं। सिर्फ चीन के झंग बाक्सिन ही अपवाद हैं,जिन्होंने टैल एजुकेशन ग्रुप नामक कंपनी बनाई और 2.2 अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक बने। वे इस सूची में तीसरे पायदान पर हैं।

चेन्नई के मूल निवासी हैं पुडूर

37 वर्षीय पुडूर चेन्नई से हैं। स्नातक करने के बाद 1998 में उन्होंने सेल्फ्रेम की स्थापना की थी, जो अब माइक्रोसॉफ्ट के बाद वर्ड प्रोसेसर बनाने वाली दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी बन गई है। इतना ही नहीं वह खनन और रीयल एस्टेट के क्षेत्र में भी भाग्य आजमा रहे हैं।

लियो सबसे युवा अरबपति उद्यमी

वेल्थ-एक्स की लिस्ट में सबसे युवा उद्यमी लियो चेन हैं। 32 वर्षीय लियो चीन की सबसे बड़ी कॉस्मेटिक रिटेल कंपनी जुमेई इंटरनेशनल होल्डिंग के अध्यक्ष और सीईओ हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि मई, 2014 में अपनी कंपनी के न्यूयार्क स्टॉक एक्सचेज में लिस्ट होने के बाद लियो अरबपति बने हैं।

शीर्ष दस उद्यमी

  1. अरुण पुडुर -- 4 अरब डॉलर
  2. जाऊ याहुई -- 2.2 अरब डॉलर
  3. झंग बाक्सिन -- 2.2 अरब डॉलर
  4. याओ जिंगबो -- 2.2 अरब डॉलर
  5. लियो चेन -- 2.0 अरब डॉलर
  6. ही जिंताओ -- 2.0 अरब डॉलर
  7. एन. बाबा -- 1.6 अरब डॉलर
  8. के.कासाहारा -- 1.5 अरब डॉलर
  9. यूसाकू माइजावा -- 1.3 अरब डॉलर
  10. पांग शेंगडोंग -- 1.2 अरब डॉलर