वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन से मुलाकात के लिए जून में दक्षिण कोरिया जाएंगे। ट्रंप और मून इस बैठक में उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर अपनी कोशिशों को जारी रखने पर चर्चा करेंगे। फरवरी में ट्रंप और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन की बैठक के बाद ट्रंप और मून की यह दूसरी मुलाकात होगी।

वियतनाम में हुई ट्रंप और किम की यह वार्ता विफल रही थी। दोनों नेता उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर किसी समझौते पर पहुंचने में नाकाम रहे थे। अमेरिकी राष्ट्रपति भवन व्हाइट हाउस ने बुधवार को ट्रंप के दक्षिण कोरिया दौरे की जानकारी देते हुए बताया, 'राष्ट्रपति ट्रंप और उनके दक्षिण कोरियाई समकक्ष मून उत्तर कोरिया के पूर्ण और विधिवत परमाणु निरस्त्रीकरण तक अपने समन्वित प्रयास जारी रखेंगे।'

पिछले साल जून में सिंगापुर में ट्रंप और किम की पहली मुलाकात में मून ने अहम भूमिका निभाई थी। वह परमाणु संपन्न उत्तर कोरिया से संपर्क बनाए रखने के हिमायती रहे हैं।

बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की वार्ता से नतीजे की उम्मीद कर रही दुनिया को उस वक्त निराशा हाथ लगी थी जब वियतनाम की राजधानी हनोई में जोर-शोर से शुरू हुई दो दिवसीय वार्ता के पहिए उत्तर कोरिया से प्रतिबंध हटाने की बात पर थम गए थे।

उत्तर कोरिया परमाणु ठिकानों पर कोई कदम उठाने से पहले अपने ऊपर लगे सभी प्रतिबंध हटाने का दबाव बनाता रहा है। वहीं अमेरिका का कहना है कि उस पर नियंत्रण के लिए प्रतिबंध बहुत जरूरी हैं। प्रतिबंध हटाने पर तभी विचार होगा, जब उत्तर कोरिया अपने परमाणु ठिकाने खत्म करेगा।