काठमांडू। भारत और नेपाल के बीच पहली ब्रॉड गेज रेल लाइन इसी साल दिसंबर में शुरू होने की उम्मीद है। रेल विभाग के वरिष्ठ मंडल अभियंता प्रकाश भक्त उपाध्याय के मुताबिक, नेपाल अपनी पहली ब्रॉड गेज पैसेंजर ट्रेन जनकपुर से बिहार के जयनगर के बीच चलाने की तैयारी कर रहा है। चीन की सरकारी एजेंसी शिन्हुआ ने यह खबर दी है।

69 किलोमीटर लंबी इस लाइन पर पहले नैरो गेज की ट्रेन चलती थी। लेकिन, पांच साल पहले ट्रैक बदलने के लिए इस सेवा को रोक दिया गया। उपाध्याय ने बताया कि नेपाल ब्रॉड गेज रेल चलाने के लिए भारत से ट्रेन और चालक दल के सदस्यों को लीज पर लेगा, क्योंकि उनके देश के पास जरूरी संसाधनों का अभाव है।

इस बीच, काठमांडू-रक्सौल के बीच रेल लाइन के लिए सर्वेक्षण का काम जल्द शुरू किया जाएगा। दोनों देश इस सिलसिले में सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करने के लिए सहमत हो गए हैं। नेपाल और चीन के बीच रेल चलाने की संभावना पर अध्ययन के लिए सहमत होने के कुछ दिनों बाद भारत और नेपाल के बीच यह सहमति बनी है।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली की भारत यात्रा के दौरान रक्सौल और काठमांडू के बीच ट्रेन चलाने पर सहमति बनी थी। इन दोनों के अलावा दोनों देशों के बीच चार अन्य सीमा पार लाइनों पर या तो काम शुरू हो चुका है या फिर उसकी योजना तैयार की जा रही है।