लंदन। भारतीय मूल के मशहूर इतिहासकार तपन राय चौधरी का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 90 वर्ष के थे। वह अपने पीछे पत्नी प्रतिमा और बेटी सुकन्या को छोड़ गए हैं। चौधरी को वर्ष 2007 में भारत सरकार ने साहित्य व शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। उनका निधन बुधवार को ऑक्सफोर्ड में हुआ। एक साल पहले उन्हें दौरा पड़ा था। इसके बाद वह इससे उबर नहीं पाए।

चौधरी 1973 से 1992 के बीच सेंट एंटनी कॉलेज, ऑक्सफोर्ड में आधुनिक दक्षिण एशियाई इतिहास के रीडर थे। एंटनी कॉलेज में तपन राय चौधरी को इंडियन हिस्ट्री और सिविलाइजेशन का एड होमिनेन पद प्रदान किया गया था। वह वर्ष 1993 में ऑक्सफोर्ड से सेवानिवृत्त हुए। चौधरी का जन्म वर्तमान में दक्षिणी बांग्लादेश में स्थित बंगाल की खाड़ी के उत्तरी किनारे के बरिसाल में आठ मई, 1926 को हुआ था। उन्होंने 25 साल की उम्र में कलकत्ता विवि डी फिल डिग्री ली थी।

प्रमुख किताबें

1. बंगाल अंडर अकबर एंड जहांगीर

2. जेन कंपनी इन कोरोमंडल

3. यूरोप रिकंसीडर्ड: परसेप्शन आफ द वेस्ट इन नाइटिंथ सेंचुरी ऑफ बंगाल

4. बंगालनामा (2007)

5. द वर्ल्ड इन अवर टाइम