ताईवान। दो डॉलर के योगर्ट की चोरी के मामले में चोर की पहचान करने के लिए पुलिस ने 500 डॉलर खर्च किए। ये बात सुनने में भले ही अजीब लग रही हो, लेकिन ताईवान में ऐसा ही एक मामला सामने आया है। पांच लोगों में से योगर्ट चोर की पहचान करने के लिए ताईवानी पुलिस ने डीएनए टेस्ट का सहारा लिया। इस डीएनए टेस्ट की कीमत पांच सौ डॉलर के खर्च के रुप में सामने आई।

ताईवान पुलिस के पास पिछले दिनों एक अजीबोगरीब शिकायत सामने आई थी, पांच अन्य महिलाओं के साथ रूम शेयर कर रह रही एक महिला ने अपने साथ रह रही महिलाओं पर योगर्ट चोरी का आरोप लगाते हुए पुलिस को शिकायत कर दी। महिला का आरोप था कि बिना उसकी अनुमति के उसके द्वारा खरीदी गई योगर्ट की बॉटल को उसके साथ रहने वाली किसी महिला ने खत्म किया। इसे लेकर साथ रहने वाली महिलाओं से उसने पूछताछ की तो सभी ने ऐसा करने से इंकार किया। ऐसे में योगर्ट चोर की पहचान करने के लिए महिला पुलिस के पास पहुंच गई।

शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने शिकायतकर्ता महिला के साथ ही अन्य पांच महिलाओं से पूछताछ की लेकिन बात नहीं बनी। इस पर शिकायतकर्ता महिला द्वारा डीएनए टेस्ट कराने की मांग की गई।

योगर्ट चोर की पहचान करने के लिए पुलिस ने भी पांचों महिलाओं सहित शिकायतकर्ता महिला का डीएनए टेस्ट करा डाला। एक डीएनए टेस्ट पर पुलिस का 98 डॉलर का खर्चा आया। 2 डॉलर के योगर्ट चोर को पकड़ने के लिए ताईवान पुलिस ने 585 डॉलर खर्च कर योगर्ट चोर की पहचान की।

पुलिस ने एक तरफ जहां 2 डॉलर के चोर को पकड़ने के लिए 585 डॉलर खर्च कर डाले। वहीं इस घटना के सामने आने के बाद आम लोगों में पुलिस की कार्यशैली को लेकर नाराजगी भी सामने आई।

एपल डेली न्यूजपेपर से चर्चा करते हुए लोगों ने कहा कि पुलिस ने समाज के संसाधनों का दुरुपयोग किया है। इससे बेहतर तो पुलिसकर्मियों द्वारा शिकायतकर्ता को 2 डॉलर की योगर्ट की बॉटल को खरीदकर दे देना था। 23 साल के कुंग का कहना था कि इस छोटे से केस के लिए पुलिस द्वारा पब्लिक का पैसा करना गलत है।