वाशिंगटन। अमेरिका में भारतीय मूल की रेणु खाटोर को डलास के फेडरल रिजर्व बैंक के निदेशक बोर्ड का प्रमुख बनाया गया है। ह्यूस्टन विश्वविद्यालय (यूएच) की अध्यक्ष रह चुकीं रेणु 2011 में बैंक के बोर्ड में शामिल हुई थीं और इसके दो साल बाद उन्हें उप प्रमुख नियुक्त किया गया था। रेणु का जन्म उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में हुआ था।

रेणु यूएच सिस्टम की चांसलर भी रह चुकी हैं। वह यूएच सिस्टम की पहली महिला चांसलर रहीं और पहली ऐसी भारतीय प्रवासी हैं जिन्होंने अमेरिका के इस समग्र शोध विश्वविद्यालय का नेतृत्व किया है।

रेणु ने कहा, "मैं यह अवसर पाकर उत्साहित और सम्मानित महसूस कर रही हूं। मैं बोर्ड के प्रमुख के तौर पर डलास फेडरल रिजर्व बैंक के प्रतिभावान और समर्पित सदस्यों के साथ काम करने और उनकी महत्वपूर्ण मौद्रिक नीति संबंधी चर्चा का हिस्सा बनने के लिए उत्सुक हूं।"

कई संस्थाओं को दीं सेवाएं

रेणु खाटोर यूएच और यूएच सिस्टम के अलावा अन्य संस्थाओं को भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं। वह भारतीय प्रधानमंत्री की वैश्विक सलाहकार परिषद, अमेरिकी शिक्षा परिषद, ग्रेटर ह्यूस्टन पार्टनरशिप, ह्यूस्टन प्रौद्योगिकी केंद्र, मेथोडिस्ट शोध संस्थान के बोर्ड, बिजनेस-उच्च शिक्षा मंच तथा विदेश संबंध परिषद का हिस्सा रही हैं।

कौन हैं रेणु खाटोर

रेणु का जन्म उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में हुआ था। कानपुर विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई के बाद उन्होंने अमेरिका के परड्यू विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर और पीएचडी की डिग्री हासिल की। वैश्विक पर्यावरण नीति के क्षेत्र की जानी-मानी शोधार्थी रेणु की इस विषय पर कई पुस्तकें और लेख भी प्रकाशित हो चुके हैं।

मिले हैं कई सम्मान

इस साल रेणु को विभिन्न संगठनों की ओर से उच्च शिक्षा में उत्कृष्टता के लिए सम्मानित किया गया है। इनमें इसी साल भारतीय राष्ट्रपति की ओर से प्रवासी भारतीय पुरस्कार, नापसा (एनएपीएसए) प्रेसीडेंट्स अवार्ड तथा भारतीय गौरव पुरस्कार शामिल हैं।