क्राइस्टचर्च। न्यूजीलैंड के साउथ आईलैंड सिटी में दो मस्जिद में गोलीबारी हुई है। न्यूजीलैंड के पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने कहा कि हमले में 50 लोगों की मौत हो गई है। करीब 48 लोग गोली लगने से घायल हैं, जिनका इलाज क्राइस्टचर्च हॉस्पिटल में किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है।

इस मामले में 20 साल के एक शख्स को आरोपित बनाया गया है, जिसे शनिवार को क्राइस्टचर्च कोर्ट में पेश किया जाएगा। इस बीच स्थानीय अखबार के हवाले से बताया जा रहा है कि न्यूजीलैंड के एक और शहर ऑकलैंड के ब्रिटोमार्ट स्टेशन पर धमाका हुआ है। हालांकि, इस घटना की स्वतंत्र पुष्टि अभी नहीं हो सकी है।

पीएम जैसिंडा ने कहा कि अब यह साफ है कि यह आतंकी हमला था। अब तक हमें जो जानकारी मिली है, उससे लगता है कि यह सुनियोजित हमला था। उन्होंने बताया कि देश में सुरक्षा जोखिम का स्तर कम (लो) से बढ़ाकर उच्च (हाई) कर दिया गया है।

जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनका नाम सुरक्षा निगरानी सूची में नहीं था। देशभर की मस्जिदों से कहा गया है कि वे अपने दरवाजे बंद रखें। उधर, ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि हमले को दंक्षिणपंथी आतंकवादी ने अंजाम दिया था, जिसके पास ऑस्ट्रेलिया की नागरिकता थी।

पुलिस ने क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुए हमले में तीन पुरुषों और एक महिला को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने अभी और संदिग्धों की गिरफ्तारी की आशंका से इनकार नहीं किया है। इसके अलावा संदिग्ध वाहन से जुड़ी दो विस्फोटक डिवाइस बरामद की गई हैं, जिन्हें बे-असर कर दिया गया है।

हमले की लाइव स्ट्रीमिंग की थी

एक चश्मदीद ने बताया कि अल नूर मस्जिद में गोलीबारी की वजह से कई लोगों की मौत हो गई है। पीएम ने कहा कि शहर की इस प्रमुख मस्जिद में 30 लोगों की मौत हुई है। वहीं, क्राइस्टचर्च के उपनगरीय इलाके लिनवुड की मस्जिद में हुए हमले में 10 लोगों की मौत हुई है। इस हमले में पहली बार सामने आया है कि आतंकी हेड गियर में कैमरा लगाकर आया था, जिससे उसने घटना की लाइव स्ट्रीमिंग की।

न्यूजीलैंड के स्थानीय समाचार चैनलों में शूटिंग की लाइव स्ट्रीमिंग दिखाई गई। माना जा रहा है यह फुटेज उस आतंकी के एकाउंट की है, जिसने मस्जिद में हमले को अंजाम दिया है। हालांकि, घटना के बाद फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब ने हत्याकांड के वीडियो को डिलीट करते हुए उस एकाउंट को ब्लॉक कर दिया है, जिससे हमले की फुटेज की लाइव स्ट्रीमिंग की जा रही थी।

200 से ज्यादा लोग थे मस्जिद में

पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया कि क्राइस्टचर्च के भीतर गंभीर स्थिति थी। मस्जिद में जुमे की नमाज के लिए काफी लोग आए थे। अल नूर मस्जिद में हमले के वक्त 200 से ज्यादा लोग मौजूद थे। घायलों को निकालने के लिए कई एंबुलेंस मौके पर पहुंच चुकी हैं। पुलिस ने लोगों से अपील की है कि यदि उन्हें कोई भी संदिग्ध गतिविधि दिखती है, तो वे 111 पर फोन करके जानकारी दें।

बांग्लादेशी क्रिकेट टीम बाल-बाल बची

बांग्लादेश की क्रिकेट टीम के सदस्य भी हमले के दौरान मस्जिद के अंदर मौजूद थे। खिलाड़ियों को किसी तरह से बाहर निकाल लिया गया है। बांग्लादेशी खिलाड़ी तामिम इकबाल ने कहा कि टीम के सभी सदस्य हमलावरों से बचा लिया गया है। खिलाड़ियों ने पार्क के रास्ते भागकर जान बाचाई। बताते चलें कि शनिवार को बांग्लादेशी खिलाड़ियों को क्राइस्टचर्च में टेस्ट मैच खेलाना था। मगर, अब बताया गया है कि मैच को रद कर दिया गया है और खिलाड़ी बांग्लादेश में वापस लौट रहे हैं।

गोलीबारी की खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी और इलाके के आस-पास के रास्तों को बंद कर दिया गया था। इस बीच आतंकियों ने दूसरी मस्जिद पर भी हमला कर दिया। दूसरी मस्जिद को भी पूरी तरह से खाली करा लिया गया है।

पुलिस ने पूरा इलाका घेर लिया है

पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया कि हमने पूरे इलाके को घेर लिया है और किसी को भी यहां नहीं आने की चेतावनी दी गई थी। साथ ही इलाके के सारे स्कूल और चर्च बंद करा दिए गए ।

स्थानीय मीडिया के अनुसार, शूटर काले रंग के कपड़े और हेलमेट पहनकर मस्जिद में घुसा था। उसने नमाज पढ़ रहे लोगों पर ऑटोमैटिक गन से अंधाधुंध फायरिंग कर दी। पुलिस ने एहतियातन लोगों से कहा है कि वे घरों से बाहर नहीं निकलें। सेंट्रल क्राइस्टचर्च में प्रशासन ने लोगों की सुरक्षा के लिए यह कदम उठाया है।

प्रधानमंत्री ने कहा- न्यूजीलैंड का काला दिन है यह

जैसिंडा आर्डेन ने कहा कि यह न्यूजीलैंड के सबसे काले दिनों में से एक है। यह हिंसा का अप्रत्याशित कार्य है। न्यूजीलैंड में ऐसे लोगों के लिए कोई जगह नहीं है। पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। हालांकि, उसके बारे में अभी अधिक जानकारी नहीं दी गई है। पुलिस को आशंका है कि अभी वहां और भी हमलावर मौजूद हो सकते हैं।

पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया कि हमने पूरे इलाके को घेर लिया है और किसी को भी यहां नहीं आने की चेतावनी दी गई है। उन्होंने बताया कि हम तथ्यों की पुष्टि कर रहे हैं। कई लोगों की मौत हुई है, लेकिन अभी उनकी सही संख्या के बारे में नहीं बताया जा सकता है।