इस्लामाबाद। तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष औऱ पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान इमरान खान को एंटी टेरेरिज्म कोर्ट यानी एटीसी ने जमानत दे दी है।

इमरान खान पर 2014 में सरकारी पाकिस्तान टीवी के मुख्यालय बिल्डिंग पर हमले का आरोप था। कोर्ट से मिली जमानत पर इमरान खान ने बहुत नाटकीय प्रतिक्रिया दी। इमरान खान ने अपनी जमानत को लेकर ट्विटर पर शाहरुख खान की फिल्म माय नेम इज खान का फेमस डायलॉग दोहराते हुए लिखा कि- 'माय नेम इज खान और मैं आतंकवादी नहीं हूं।'

पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष इमरान खान पर सरकार के खिलाफ सौ दिन लंबे चले आंदोलन के दौरान पीटीवी की बिल्डिंग पर हमले का आरोप था। एटीसी जज शाहरुख अर्जुमंद ने इमरान खान की अग्रिम जमानत की याचिका पर हुई बहस के बाद उन्हें जमानत दी।

2014 के विरोध प्रदर्शन के दौरान इमरान खान पर एसएसपी रैंक के पुलिस अफसर असमत्तुला जुनेजो पर भी हमले का आरोप था। कोर्ट का फैसला आने के बाद इमरान खान ने सत्ता से बेदखल हुए पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर निशाना साधा और उनकी सरकार में पारदर्शिता की कमी के लिए जमकर कोसा।

इमरान खान ने निशाना साधते हुए कहा कि- 'नवाज शरीफ ने मुझे ऐसे मामलों में फंसाने की कोशिश की, जिसमें मैं कभी शामिल ही नहीं था।' वहीं इमरान खान ने सुप्रीम कोर्ट में उनके विरुद्ध मुकदमे का संदर्भ दिया, जिसमें उन्हें 2016 में ही बरी कर दिया गया था।

इमरान खान यही नहीं रूके, उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ राजनीतिक षड्यंत्र के तहत केस दर्ज किए गए, वो भी इसलिए क्योंकि मैंने शरीफ सरकार पर सवाल खड़े किए थे।'