वाशिंगटन। वैज्ञानिकों ने ऐसे नैनो रोबोट विकसित किए हैं जो ट्यूमर को नष्ट कर कैंसर का इलाज करने में सक्ष्म हैं। बाल से हजार गुना छोटे आकार के ये रोबोट शरीर में प्रवेश कर ट्यूमर में रक्त के प्रवाह को रोक देते हैं। इससे ट्यूमर कुछ ही समय में पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं। शोधकर्ताओं ने इस तकनीक का चूहों पर सफल और सुरक्षित परीक्षण किया है। आगे इसका प्रयोग मनुष्य को होने वाले विभिन्न प्रकार के कैंसर के इलाज में किया जा सकेगा।

अमेरिका स्थित एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी (एएसयू) के वैज्ञानिकों ने नैनौ रोबोट को डीएनए ऑरिगैमी विधि के तहत डीएनए शीट से विकसित किया है। आकार में हर रोबोट 90 नैनोमीटर लंबा और 60 नैनोमीटर चौड़ा है। इसकी सतह से रक्त प्रवाह को रोकने वाले एंजाइम थ्रॉम्बिन को जोड़ा गया। थ्रॉम्बिन ट्यूमर में रक्त प्रवाह को रोक देता है। इससे ट्यूमर पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं।

रेडिएशन या कीमोथेरेपी से कैंसर के उपचार में कई बार स्वस्थ ऊतक भी नष्ट हो जाते हैं। इसलिए चाइनीज अकादमी ऑफ साइंसेज और एएसयू के शोधकर्ताओं की प्राथमिकता एक ऐसी तकनीक को विकसित करने की थी जिससे स्वस्थ टिश्यू को नुकसान ना पहुंचे। ऐसा करने में ये रोबोट सक्षम हैं। वैज्ञानिक डॉ. हाओ यान का कहना है कि इस रोबोट को संचालित करने के लिए किसी व्यक्ति की भी जरूरत नहीं है। इससे सभी प्रकार के कैंसर के इलाज किया जा सकेगा क्योंकि ट्यूमर को रक्त पहुंचाने वालीं वाहिनियां शुरुआत में एक जैसी ही रहती हैं।