न्यूयॉर्क। अपनी खबरों के जरिये दुनियाभर में यौन उत्पीड़न को मुद्दा बनाने के लिए न्यूयॉर्क टाइम्स और द न्यूयॉर्कर अखबार को इस साल के प्रतिष्ठित पुलित्जर अवार्ड के लिए चुना गया है। दोनों अखबारों ने अपनी पैनी रिपोर्टिंग के जरिये हॉलीवुड के दिग्गज निर्माता हार्वे वीनस्टीन को कठघरे में खड़ा करते हुए अमेरिका के सबसे बड़े यौन उत्पीड़न मामले को उजागर किया था। न्यूयॉर्क टाइम्स के जोडी कानटोर व मेगन टोही और न्यूयॉर्कर के रोनन फैरो को पुलित्जर अवार्ड से नवाजा जाएगा।

दोनों अखबारों ने पिछले साल अक्टूबर से यौन उत्पीड़न से जुड़ी खबरें प्रकाशित करना शुरू किया था। इसके बाद 100 से अधिक महिलाओं ने अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न को सार्वजनिक तौर पर उजागर किया। इसी के चलते सोशल मीडिया समेत अन्य प्लेटफार्म पर "मी टू" अभियान की शुरुआत हुई, जिसकी वजह से कई जानी-मानी हस्तियों को अपनी साख और नौकरी से हाथ धोना पड़ा।

खोजी पत्रकारिता के वर्ग में वाशिंगटन पोस्ट को पुरस्कार के लिए चुना गया है। न्यूयॉर्क टाइम्स और वाशिंगटन पोस्ट को 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रूसी दखल की रिपोर्टिंग के लिए साझा तौर पर नेशनल रिपोर्टिंग श्रेणी का पुरस्कार दिया जाएगा। फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो दुतेर्ते की ड्रग्स के खिलाफ मुहिम की कवरेज के लिए संवाद एजेंसी रायटर को "इंटरनेशनल रिपोर्टिंग" और रोहिंग्या संकट की कवरेज के लिए "फीचर फोटोग्राफी" वर्ग में पुलित्जर अवार्ड दिया जाएगा।