कुआलालंपुर। ईस्ट तिमोर, ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं की मदद से प्लास्टिक कचरे को रिसाइकल करेगा। यदि ऐसा होता है तो यह दक्षिण पूर्वी एशियाई देश विश्व का पहला प्लास्टिक कचरा मुक्त देश बन जाएगा। इतना ही नहीं। इस कचरे से नए प्रोडक्ट बनाए जाएंगे। इस तकनीक के सह-खोजकर्ता थॉमस मश्मेयर ने कहा, इस देश के लिए यह इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यहां बड़े पैमाने पर समुद्री तट हैं और इन तटों पर कचरा बिखरा रहता है। इस छोटे से देश में हम यह घोषणा कर सकते हैं कि यह पूरा देश प्लास्टिक मुक्त होने जा रहा है, वर्ष 2020 तक इस तकनीक को इजाद कर लिया जाएगा।

प्लास्टिक का अगर निपटारा नहीं किया जाए तो यह बहुत बड़ी परेशानी बन सकती है। जबकि इसका निपटारा करने पर यह अच्छी चीज बन जाती है।' फिलहाल प्लास्टिक वेस्ट को ईस्ट तिमोर में खुले में जला दिया जाता है। इस देश की जनसंख्या 13 लाख है। यहां हर दिन करीब 70 टन प्लास्टिक कचरा निकलता है।

प्रति वर्ष 80 लाख टन समुद्र में वैज्ञानिकों ने जानकारी देते हुए कहा है कि विश्व में विभिन्न देश 80 लाख टन प्लास्टिक प्रति वर्ष समुद्र में फैंकते हैं। यह रिसाइकल हनहीं होता है। अधिक प्लास्टीक वेस्ट उत्सर्जित करने वाले देशों में चीन, इंडोनेशिया, वियतनाम, फिलीपींस और थाइलैंड ऐसा करने वाले प्रमुख देश हैं।