लाहौर। जमात-उद-दावा के प्रमुख और मुंबई आतंकी हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद की नई पार्टी मिली मुस्लिम लीग (एमएमएल) ने कहा है कि वह 23 मार्च को अपना घोषणापत्र जारी करेगी। इस वर्ष होने जा रहे चुनाव से पहले पाकिस्तान की एक अदालत ने राजनीतिक दल के रूप में इसके पंजीकरण की अड़चन दूर कर दी है। आम चुनाव में पार्टी ने हर क्षेत्र में प्रत्याशी उतारने का फैसला लिया है।

पाकिस्तान की सरकार ने हाफिज के संगठन जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत की सभी चल एवं अचल संपत्ति जब्त कर ली थी। इसके अलावा देश में उसके सभी बैंक खातों को फ्रीज कर दिया गया। इसके बाद दरकिनार हो गए हाफिज अब अपनी पार्टी का घोषणापत्र जारी कर सकते हैं।

गृह मंत्रालय की सिफारिश पर नामंजूर की गई थी अर्जी

इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने पिछले सप्ताह पाकिस्तान चुनाव आयोग के फैसले को खारिज कर दिया। आयोग ने एमएमएल की राजनीतिक दल के रूप में पंजीकृत करने की अर्जी ठुकरा दी थी। आने वाले दिनों में आयोग एमएमएल के भविष्य के बारे में फैसला लेगा। आयोग ने गृह मंत्रालय की सिफारिश पर हाफिज की पार्टी की अर्जी नामंजूर की थी। गृह मंत्रालय ने कहा था कि एमएमएल का प्रतिबंधित आतंकी संगठनों के साथ संबंध है।

पहले स्थापना दिवस 23 मार्च को जारी होगा घोषणापत्र : खालिद

मंगलवार को जारी बयान में एमएमएल के अध्यक्ष सैफुल्ला खालिद ने कहा है कि अदालत के फैसले के बाद राजनीतिक दल के रूप में पंजीकृत होने की राह में कोई कानूनी अड़चन नहीं है। उन्होंने कहा, 'पहले स्थापना दिवस पर 23 मार्च को हम एमएमएल का घोषणापत्र जारी करेंगे।'

चुनाव खर्च वहन करने में समर्थ को बनाएंगे प्रत्याशी

आने वाले आम चुनाव के बारे में एमएमएल अध्यक्ष ने कहा कि सभी राष्ट्रीय और प्रांतीय असेंबली सीट पर प्रत्याशी उतारने का फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि पार्टी ऐसे प्रत्याशियों का चयन करेगी जो न केवल चुनाव खर्च वहन करने में सक्षम होंगे, बल्कि संबंधित क्षेत्र में उनका अपना वोट बैंक भी होगा।