Naidunia
    Saturday, February 24, 2018
    PreviousNext

    पाकिस्तान बना रहा नए किस्म के परमाणु हथियार

    Published: Wed, 14 Feb 2018 12:23 AM (IST) | Updated: Wed, 14 Feb 2018 02:08 PM (IST)
    By: Editorial Team
    nuclear weapon 14 02 2018

    वाशिंगटन। अमेरिकी खुफिया प्रमुख के अनुसार पाकिस्तान नए किस्म के परमाणु हथियार विकसित कर रहा है। इसमें कम दूरी के सामरिक हथियार भी शामिल हैं। आतंकवाद के पनाहगार देश पाकिस्तान के बारे में यह जानकारी सामने आने से दक्षिण एशिया क्षेत्र के लिए खतरा और बढ़ गया है। अमेरिका के नेशनल इंटेलिजेंस के निदेशक डान कोट्स ने अमेरिकी उच्च सदन सीनेट में सांसदों को बताया कि पाकिस्तान नए किस्म के परमाणु हथियार बनाने में जुटा हुआ है।

    वह नासिर्फ परमाणु हथियार बनाना जारी रखे हुए है बल्कि वह अब नए किस्म के कम दूरी के परमाणु हथियार बना रहे है। जो निश्चित रूप से भारत पर निशाना लगाने के लिए ही हैं। इन परमाणु हथियारों में समुद्र केंद्रित क्रूज मिसाइलें, हवा से छोड़ी जाने वाली क्रूज मिसाइल और लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलें शामिल हैं। इन नए किस्म के परमाणु हथियारों से भारत समेत क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बढ़ गया है। उन्होंने यह कह कर भी चेताया कि पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन भारत के अंदर आतंकी हमले जारी रखेंगे। इससे दोनों पड़ोसी देशों के बीच तनाव और बढ़ने का खतरा है।

    कोट्स ने यह संदेश विगत शनिवार को जम्मू में सुंजवान सैन्य शिविर में पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के हमले के बाद दिया है। कोट्स ने अमेरिका के उच्च सदन सीनेट की चयन समिति के सामने पेश होकर कहा कि पाकिस्तान अमेरिकी हितों को नुकसान पहुंचाता रहेगा। पाकिस्तान नए परमाणु हथियारों को तैनात कर रहा है। आतंकवादियों से संबंध बना रहा है। आतंकवाद रोधी कार्यक्रमों में बाधा डाल रहा है और चीन से नजदीकियां बढ़ा रहा है। कोट्स ने बताया कि अमेरिकी हितों के खिलाफ पाकिस्तानी समर्थन वाले यह आतंकी संगठन पाकिस्तान में सुरक्षित पनाह लेकर भारत और अफगानिस्तान के खिलाफ हमले करेंगे।

    चीन से भी बढ़ेगा तनाव

    अमेरिकी खुफिया प्रमुख कोट्स ने भारत और चीन के बीच भी तनाव जारी रहने की आशंका जताई है। उनका कहना है कि भारत और चीन के बीच संबंध तनावपूर्ण रहेंगे। पूर्वी एशिया में चीन अपनी सक्रिय विदेश नीति लागू करने पर आमादा रहेगा। दक्षिण चीन सागर को लेकर चीन के संबंध ताइवान से भी और खराब होंगे।

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें