इस्लामाबाद। भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान 17 जुलाई को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में अपना दूसरा जवाबी हलफनामा दाखिल करेगा। जाधव को पिछले साल अप्रैल में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी और आतंकवाद के आरोपों में मौत की सजा सुनाई थी। मीडिया की गुरुवार की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

आईसीजे ने 23 जनवरी को भारत और पाकिस्तान दोनों को इस मामले में दूसरे दौर का हलफनामा दाखिल करने को कहा था। पाकिस्तान का यह हलफनामा भारत की ओर से 17 अप्रैल को दाखिल हलफनामे के जवाब में होगा। एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मुख्य अटॉर्नी खावर कुरैशी ने प्रधानमंत्री नसीरुल मुल्क को पिछले सप्ताह इस मामले की जानकारी दी थी। कुरैशी ने शुरुआत में इस मामले में पाकिस्तान की ओर से पैरवी की थी।

रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के अटॉर्नी जनरल खालिद जावेद खान तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में शामिल हुए थे। यह हलफनामा कुरैशी ने तैयार किया है। दूसरा हलफनामा पेश होने के बाद आईसीजे इस मामले में सुनवाई की तारीख तय करेगा, जिसके अगले साल होने की उम्मीद है। गौरतलब है कि पाकिस्तान की सैन्य अदालत द्वारा जाधव को मौत की सजा सुनाए जाने के बाद भारत पिछले साल मई में आईसीजे गया था। इसके बाद आईसीजे ने 18 मई को पाकिस्तान पर मामले का निपटारा होने तक जाधव की सजा की तामील पर रोक लगा दी थी।