मस्कट। अपनी चार देशों की यात्रा के अंतिम दिन पीएम मोदी ने ओमान में सोमवार दोपहर को मस्कट में स्थित 200 साल पुराने शिव मंदिर पहुंचे। प्रधानमंत्री ने यहां पूजा की और आशीर्वाद लिया। यह मंदिर रेगिस्तान में बना है और इसका काफी महत्व बताया जाता है जो ओमान के सुल्तान के घर से कुछ ही दूर बना है। कहा जाता है कि इस मंदिर को गुजरात से आए कुछ व्यापारियों ने बनाया था।

इसके बाद प्रधानमंत्री सुल्तान कबूस ग्रैंड मस्जिद पहुंचे। यहां उन्होंने मस्जिद का दौरा करने के बाद विजिटर्स बुक में अपने अनुभव लिखे साथ ही मस्जिद के बाहर आकर समर्थकों से मिले। इसी के साथ पीएम मोदी का चार देशों का दौरा पूरा हो गया और वो दिल्ली के लिए रवाना होगए

इससे पहले इंडिया-ओमान बिजनेस समिट में हिस्सा लिया। इसके बाद वे देश के उपप्रधानमंत्री सैयद असद बिन तारीक अल असद से मुलाकात करने पहुंचे।

इससे पहले पीएम मोदी रविवार को ओमान पहुंचे जहां उन्होंने मस्कट में प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के समय एक के बाद एक घोटालों से भारत की छवि खराब हो रही थी। कुशासन का तौर-तरीका बदलने के लिए उनकी सरकार को बहुत कठिन परिश्रम करना पड़ा है।

सुल्तान कबूस स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकारें आती-जाती हैं। महत्वपूर्ण ये है कि सरकार किस तरह का प्रशासन दे रही है? योजनाएं कितनी जल्दी पूरी हो रही हैं?

पीएम ने इस बार बजट में पेश स्वास्थ्य बीमा योजना का जिक्र करते हुए कहा कि मीडिया ने इसे मोदी केयर का नाम दिया है। 90 पैसे और एक रुपये में गरीबों का बीमा कराया गया है। मैं चायवाला हूं। जानता हूं कि 90 पैसे में तो चाय भी नहीं आती। चार साल होने को आए और कोई नहीं पूछता कि मोदी कितना ले गया। लोग अब यह पूछते हैं कि कितना आया?

पीएम ने अपने संबोधन की शुरुआत में कहा कि ओमान की धरती पर एक मिनी इंडिया देख रहा हूं। देश के अलग-अलग कोने से आए हुए भारतीय, अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वाले भारतीय एक भव्य तस्वीर का निर्माण कर रहे हैं।