कोलंबो। श्रीलंका की पुलिस ने ईस्टर के मौके पर हुए आत्मघाती धमाकों के मामले की जा रही जांच में एक स्कूल के प्रिंसिपल और शिक्षक को गिरफ्तार किया है। इनकी गिरफ्तारी आतंकी संगठन ISIS से जुड़े नेशनल तौहीद जमात (NTJ) से संबंध रखने के शक में हुई है। श्रीलंका सरकार ने इसी आतंकी संगठन को 21 अप्रैल को तीन चर्चों और तीन लक्जरी होटलों पर हुए आत्मघाती हमलों के लिए जिम्मेदार ठहराया था। इन हमलों में करीब 260 लोग मारे गए थे।

स्थानीय मीडिया के मुताबिक पुलिस ने बताया कि 56 साल के प्रिंसिपल और 47 साल के शिक्षक को गुरुवार को होरोवपतना शहर से गिरफ्तार किया गया। दोनों संदिग्धों की पहचान नूर मुहम्मद अद्दू उल और अजिबुल जबार के तौर पर की गई है। उन्हें शुक्रवार को स्थानीय मजिस्ट्रेट अदालत में पेश किया गया।

पुलिस को यह सूचना मिली थी कि दोनों के एनटीजे और इसके सरगना मुहम्मद जहरान हाशिम से सीधे संबंध थे। हाशिम ने ही आत्मघाती हमलावरों का नेतृत्व किया था। उसने 21 अप्रैल को कोलंबो के शांगरी-ला होटल में खुद को उड़ा लिया था। ईस्टर पर हुए आतंकी हमलों के बाद इस हफ्ते श्रीलंका में बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक हिसा हुई थी। इसमें कई मस्जिदों और मुस्लिमों की दुकानों को नुकसान पहुंचा गया था। पुलिस ने कहा कि मुस्लिमों पर हमले के मामले में अब तक 70 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

क्षतिग्रस्त मस्जिदों में पढ़ी गई नमाज

श्रीलंका में भारी सुरक्षा के बीच अल्पसंख्यक मुस्लिमों ने शुक्रवार की नमाज उन मस्जिदों में भी पढ़ी जिन्हें हिंसा के दौरान निशाना बनाया गया था। ईस्टर हमलों को लेकर कई मस्जिदों में तोड़फोड़ की गई थी। मौलवियों ने बताया कि हमले में क्षतिग्रस्त हुई मस्जिदों से मलबा हटा दिया गया है और नमाज में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।