मेक्सिको। गुड्डे-गुडियों का खेल आमतौर पर सभी बचपन में खेला करते हैं। ये बेजुबान गुड़िया बच्चों की अच्छी दोस्त बन जाती है। बच्चों के लिए डॉल्स इतनी खास होती है कि उनके साथ ही उठना-बैठना, खाना-पीना और सोना चलता है। लेकिन आपको यह सुनकर यकीन करना मुश्किल होगा कि दुनिया में एक ऐसी जगह है जहां ये बच्चों के खेलने वाली गुड़िया बोलती हैं।

मेक्सिको के एक आइलैंड पर सैकड़ों गुड़िया लटकी हैं जो कि बोलती हैं, पलके झपकती हैं और सम्मोहित भी करती हैं। इस आइलैंड का नाम 'La Isla de la Munecas' है लेकिन इसे अब डॉल्स आइलैंड के नाम से जाना जाता है। एक फ्लोटिंग गार्डन पर तैरते इस आइलैंड की खासीयत है कि स आइलैंड पर सैकड़ों में बेहद डरावनी और टूटी-फूटी डॉल्स लटकी हुई है।

कहा जाता है कि यहां पर गुड़िया रात होने पर बोलती हैं और लोगों को अपनी डरावनी निगाहों से देखती हैं। इस आइलैंड को हॉन्टेड घोषित नहीं किया गया है लेकिन स्थानीय रहवासियों का मानना है कि ये लटकी हुई डॉल्स खुद बातें करने लगती हैं। लोगों का मानना है कि इस आइलैंड में रहस्यमयी तरीके से एक छोटी बच्ची की मौत हो गई थी। साल 2001 तक इस आइलैंड के केयरटेकर डॉन जुलियन सैन्टाना बर्रेरा थे।

बताता जाता है कि मरने से पहले वे इस आइलैंड पर अकेले रहते थे। उन्होंने एक बच्ची का शव तैरता हुआ देखा था। जब उन्होंने उसे देखा था तब बच्ची के दिल की धड़कन चल रही थी लेकिन कोशिशों के बावजूद वे उसे नहीं बचा पाए। यह कहा जाता है कि बच्ची की मौत के बाद एक गुड़िया भी तैरते हुए दिखी। जुलियन का मानना था कि यह बच्ची का शरीर है इसलिए उसने गुड़िया को पेड़ पर टांग दिया जहां वह मरी थी।

इसके बाद बच्ची की आत्मा की शांति के लिए वह पेड़ पर डॉल्स टांगते गए।

अब डॉल्स आइलैंड एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन बन चूका है लोग यहाँ पर घूमने आते है पर रात को यह आइलैंड वीरान ही रहता है रात को आइलैंड पर केवल डॉल्स का राज रहता है।