वाशिंगटन। अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) के गठन और उसे सक्रिय करने के लिए अमेरिका ने भारत की सरहाना की है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा,"आईएसए के स्थापना समारोह के मौके पर हम इसके सदस्यों को शुभकामनाएं देते हैं। साथ ही हम भारत सरकार की इसके गठन और उद्घाटन के अवसर पर सभी संस्थापक सदस्यों को एकजुट करने के प्रयत्न की भी सराहना करते हैं।"

रविवार को नई दिल्ली में भारत ने पहले अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन सम्मेलन की मेजबानी की थी। इस अवसर पर आईएसए अलायंस में शामिल 121 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस अलायंस में वे देश शामिल है, जो पृथ्वी की कर्क और मकर रेखा के बीच स्थित हैं। सम्मेलन के दौरान फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने विकासशील देशों में सौर उर्जा से संबंधित परियोजनाओं के लिए 86 करोड़ डॉलर (करीब पांच हजार छह सौ करोड़ रुपये) देने की घोषणा की। 2022 तक भारत ने सौर उर्जा से सौ गीगावॉट बिजली पैदा करने का लक्ष्य रखा है।