वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अफ्रीकी देशों पर टिप्पणी को लेकर घिरे ट्रंप के खिलाफ अब पनामा में राजदूत ने मोर्चा खोल दिया। अमेरिकी राजदूत जॉन फीली ने इस्तीफा दे दिया और कहा कि वह स्पष्ट तौर पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ काम करने में असमर्थ हैं। जॉन नौसेना में सेवाएं दे चुके हैं। वह 2016 से इस पद पर थे और 9 मार्च को रिटायर होने वाले थे।

जॉन ने अपने त्यागपत्र में लिखा, "विदेशी सेवा का एक जूनियर अधिकारी होने के नाते मैंने राष्ट्रपति और उनकी सरकार की सेवा करने की शपथ ली थी। फिर चाहे मैं उनके किसी खास नीति से अहसमत ही क्यों न रहूं। मुझे स्पष्ट कर दिया गया था कि यदि मुझे लगता है कि मैं वैसा न कर सकूं तो मैं इस्तीफा दे सकता हूं।" विदेश विभाग ने फीली के इस्तीफे की पुष्टि की और बताया कि निजी कारणों की वजह से उन्होंने यह फैसला लिया है।