नैरोबी। अफ्रीकी देश केन्या के जंगलों में ब्लैक पैंथर को देखा गया है। इस खबर ने दुनियाभर में हलचल मचा दी है क्योंकि इसे 100 साल बाद देखा गया है। अभी तक माना जा रहा था कि यह प्रजाति लुप्त हो गई है। ब्रिटिश वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर विल-बुरार्ड लुकास ने काले रंग के तेंदुए की तस्वीर ली है।

वहीं, सैन डियागो जू के कैमरों में काले तेंदुए के फुटेज कैद हो गए हैं। बताते चलें कि अफ्रीका के जंगलों में इससे पहले 1909 में पहली बार काले रंग का तेंदुआ देखा गया था। सैन फ्रांसिस्को में निकोलस पिलफोल्ड ने कहा कि आज से 100 साल पहले काला तेंदुआ दिखा था।

पिलफोल्ड सैन डिएगो जू में एक वैज्ञानिक हैं। उन्होंने केन्या के लाइकिया काउंटी में कैमरे स्थापित किए थे। उन्होंने कहा उनकी टीम ने महीनों तक इंतजार किया। तेदुओं की आबादी वाले क्षेत्रों में कैमरे सेटअप कर नजर बना रखी।

आखिरकार यह दुर्लभ जानवर हमारे कैमरों में कैद हो गया। पिलफोल्ड ने कहा कि इस मादा तेंदुए के कोट का रंग मेलानिज्म की वजह से काला होता है। यह एक जीन उत्परिवर्तन होता है, जिसकी वजह से वर्णक का उत्पादन अधिक होता है।