इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ के 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी गई है। सुप्रीम कोर्ट ने अदालत में पेश नहीं होने के बाद पूर्व सैन्य शासक को चुनाव लड़ने के लिए दी गई सशर्त अनुमति गुरुवार को वापस ले ली।

अदालत ने पिछले सप्ताह उन्हें 25 जुलाई को प्रस्तावित आम चुनाव लड़ने की अनुमति दी थी। इसके बाद उन्होंने उत्तरी चित्राल जिले से अपना नामांकन-पत्र दाखिल किया था।अदालत ने हालांकि मुशर्रफ को सशर्त अनुमति दी थी कि वह अपनी आजीवन अयोग्यता से जुड़े मामले में 13 जून को अदालत के समक्ष पेश होंगे।

चीफ जस्टिस साकिब निसार ने बुधवार को पूर्व सेना प्रमुख को अदालत में पेश नहीं होने के लिए फटकार लगाई थी। उनको गुरुवार अपराह्न दो बजे तक पेश होने के लिए कहा गया था।सुनवाई के दौरान मुशर्रफ के वकील कमर अफजल ने अदालत को बताया कि उनका लौटना निर्धारित था। लेकिन, उनके लिए तुरंत आना संभव नहीं था।

अफजल ने कहा-"मैंने मुशर्रफ से बात की है। वह और समय चाहते हैं। वह पाकिस्तान आने की योजना बना रहे हैं। लेकिन, ईद की छुट्टियों और बीमारी के कारण वह तुरंत यात्रा नहीं कर सकते।"इसके बाद मुख्य न्यायाधीश ने अनिश्चितकाल के लिए सुनवाई स्थगित करते हुए कहा कि अगली सुनवाई, तभी होगी जब याचिकाकर्ता इसके लिए तैयार होंगे।

निसार ने कहा कि ठीक है, हम अनिश्चितकाल तक मामले की सुनवाई स्थगित कर देंगे। इसे आपकी इच्छा पर रखेंगे। हालांकि, उन्होंने मुशर्रफ को चुनाव लड़ने के लिए दी गई सशर्त अनुमति वापस लेने के आदेश दिए। इससे पूर्व मुशर्रफ की ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग ने ट्विटर पर कहा कि उनके लौटने की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। मुशर्रफ मार्च 2016 से दुबई में रह रहे हैं और कई मामलों में वांछित हैं।