वाशिंगटन। थाईलैंड के कारोबारी चाचवल जियारावनन ने 15 करोड़ डॉलर (मौजूदा भाव पर करीब 1,090 करोड़ रुपए) में फॉर्च्यून मैगजीन को खरीदने की सहमति दी। पिछले साल इस पत्रिका को मेरेडिथ कॉर्पोरेशन ने खरीदा था।

मेरेडिथ के मुताबिक 56 वर्षीय चाचवल जियारावनन हालांकि थाईलैंड की सबसे बड़ी कंपनी चैरोन पोकफंड से ताल्लुक रखते हैं, लेकिन फॉर्च्यून को वह व्यक्तिगत स्तर पर खरीदेंगे। जियारावनन ने कहा कि वह फॉर्च्यून को दुनिया का अग्रणी बिजनेस ब्रांड बनाना चाहते हैं।

मालूम हो, फॉर्च्यून मैगजीन की शुरुआत 1930 में टाइम कंपनी के सह-संस्थापक हेनरी लूस ने की थी। मैगजीन की फॉर्च्यून 500, 100 बेस्ट कंपनी, मोस्ट पावरफुल वूमेन जैसी सूची विख्यात हैं।

इसलिए बिकी मशहूर मैगजीन

फॉर्च्यून के प्रेसिडेंट एलन मुरे अब मैगजीन के सीईओ के तौर पर जिम्मेदारी संभालेंगे। क्लिफटन लीफ एडिटर-इन-चीफ बने रहेंगे। मुरे के मुताबिक, पिछले सालों में प्रिंट से रेवेन्यू कम हुआ और मैगजीन की बिक्री भी घटी है। पिछले साल बिक्री 10 करोड़ डॉलर से भी कम रही थी। फॉर्च्यून का 60 प्रतिशत राजस्व डिजिटल एडवरटाइजिंग और कॉन्फ्रेंस से आता है।

हाल ही में बिकी है टाइम मैगजीन

इस साल जनवरी में टाइम कंपनी को मेरेडिथ ग्रुप ने खरीद लिया था। मेरेडिथ ने उसी दौरान अपने न्यूज और स्पोर्ट्स ब्रांड को बेचने का एलान कर दिया था। मेरेडिथ ने सितंबर में टाइम मैगजीन को 19 करोड़ डॉलर में बेच दिया था। उसे सेल्सफोर्स डॉट कॉम के फाउंडर मार्क बेनिऑफ और उनकी पत्नी ने खरीदा था।