मल्‍टीमीडिया डेस्‍क। कभी आपने सोचा है कि इतनी विशालकाय पृथ्‍वी जब अपनी धुरी पर तेज़ी से घूमती है तो उसकी आवाज़ कैसी होती होगी। सोचकर ही रोमांच होता है। साथ ही मन में सवाल भी उठता होगा कि अंतरिक्ष में निर्वात है ऐसे में ध्‍वनि कैसे पैदा हो सकती है।

यह बात सच है कि अंतरिक्ष में वैक्‍यूम है, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि वहां कोई ध्‍वनि नहीं है। इलेक्‍ट्रोमैग्‍नेटिक वाइब्रेशन के साउंड का अंतरिक्ष में वजूद है।

नासा द्वारा विशेष रूप से डिजाइन उपकरण द नासा वोयेगर, इंजुन वन, आई सी वन और हॉकेयी स्‍पेस प्रोब्‍स के ज़रिये इन आवाज़ों को सुनना संभव हो पाया है। 20 से 20 हज़ार हर्ट्ज़ की रेंज (मनुष्‍य की सुनने की क्षमता) के बीच इन ध्‍वनियों को प्‍लाज्‍़मा वेव्‍स की सहायता से रिकार्ड किया गया।

यू-ट्यूब पर मौजूद इस वीडियो में यही सब कहा गया है। ये आवाज़ें सुनने में रहस्‍यमयी, खौफनाक, भयभीत करने वाली लगती हैं। आप भी सुनिये।

सुन सकते हैं इन ग्रहों का साउंड -

पृथ्‍वी

ज्‍यूपिटर

मिरांडा

नेपच्‍यून

रिंग्‍स ऑफ यूरेनस

शनि

शनि के छल्‍ले

यूरेनस